देश के पांच बड़े Private Bank ने Customers की छोटी सी गलती से कमा लिए 29,000 करोड़

Home   >   धनतंत्र   >   देश के पांच बड़े Private Bank ने Customers की छोटी सी गलती से कमा लिए 29,000 करोड़

317
views

अक्सर ये देखने को मिलता है कि बैंक अकाउंट से पैसे कट जाते हैं और जब पता करने जाओ तो जानकारी मिलती है कि मिनिमम बैंलेंस न होने के चलते पैसे काट लिए गए है. कभी एक्स्ट्रा ATM ट्रांजैक्शन और कभी मैसेजिंग सर्विसेज के पैसे काट लिए जाते है हालांकि ये बैंक की ओर से निश्चित होता है कि कितने रुपये आपके अकाउंट से कटने है. लेकिन क्या कभी आपने सोचा कि कितना बैंकों को कितना रुपया इस पैनाल्टी से कमा लेते. दरअसल भारत के 5 बड़े प्राइवेट बैंकों का डेटा सामने आया है. जिसमें ये पता लगा है कि बैंकों ने मिनिमम बैलेंस, एक्स्ट्रा एटीएम ट्रांजैक्शन और मैसेजिंग सर्विसेज के जरिए कस्टमर्स से 35000 करोड़ जुटाए हैं. Finance Ministry ने राज्यसभा में ये जानकारी दी है. मिनिस्ट्री ने लिखित जवाब में सदन में बताया है कि 5 प्रमुख निजी बैंकों ने 35000 करोड़ रुपये से अधिक रुपये जमा किए हैं. इन निजी बैंकों में Axis बैंक , HDFC बैंक, IndusInd Bank , ICICI बैंक, IDBI बैंक शामिल हैं.


राज्य मंत्री डॉ. भागवत कराड ने सदन को बताया कि कस्टमर्स के मिनिमम बैलेंस नहीं रखने की वजह से बैंक करीब 21000 करोड़ पैनाल्टी वसूलने में कामयाब रहे, वहीं लिमिट से ज्यादा ATM ट्रांजैक्शन से 8289 करोड़ और मैसेजिंग सर्विसेज से 6254 करोड़ की कमाई हुई है. हालांकि ये आंकड़े 5 बैंकों के है. अगर सभी बैंकों का देखा जाए तो ये कमाई कई गुना ज्यादा भी हो सकती है.रिपोर्ट्स के मुताबिक अकाउंट में एवरेज मंथली बैलेंस लोकेशन के हिसाब से अलग-अलग होती है. जिसके चलते कस्टमर्स को को अपने अकाउंट में हर महीने एक फिक्स अमाउंट रखने की जरूरत होती है. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो बैंक की ओर से फाइन लगा दिया जाता है.

एवरेज मंथली बैलेंस के चलते
महानगरों में 3,000 रुपये से 10,000 रुपये
शहरी क्षेत्रों में 2,000 रुपये से 5,000 रुपये
 ग्रामीण क्षेत्रों में 500 रुपये से 1,000 रुपये


तक होना जरूरी होता है, अगर ऐसा नहीं होता है तो 400 रुपये से 500 रुपये के बीच चार्जेस लग सकते है. कुछ प्राइवेट बैंक  एवरेज मंथली बैलेंस को बनाए नहीं रखने के लिए सजा के अलावा, हर लेनदेन में 100 रुपये से 125 रुपये तक नकद चार्जेस भी लगाते हैं.
इसके अलावा बैंक अपने कस्टमर्स को मैसेज अलर्ट भेजने के भी चार्ज लेते हैं. हालांकि ये चार्जेस हर बैंक के अलग-अलग होते हैं. ATM ट्रांजैक्शन की बात करें तो बैंक ग्राहक अपने स्वयं के बैंक ATM से हर महीने 5 फ्री लेनदेन  कर सकते हैं. इसी तरह, अन्य बैंकों के ATM से भी एक निश्चित ट्रांजैक्शन फ्री में की जा सकती है. लेकिन इसके बाद हर ट्रांजेक्शन में 21 रुपये चार्ज लगता है. ये नियम 1 जनवरी 2022 से लागू किया गया था. 

 

 
कानपुर का हूं, 8 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं, पॉलिटिक्स एनालिसिस पर ज्यादा फोकस करता हूं, बेहतर कल की उम्मीद में खुद की तलाश करता हूं.

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!