'आर्टिकल 370' और 'क्रैक' किसे मिले कितने स्टार्स?

Home   >   रंगमंच   >   'आर्टिकल 370' और 'क्रैक' किसे मिले कितने स्टार्स?

34
views

दो मच अवेटेड फिल्म रिलीज हो चुकी हैं, पहली आर्टिकल 370 और दूसरी क्रैक। दोनों का ही सबजेक्ट एक-दूसरे से बिल्कुल अलग है।

दो मच अवेटेड फिल्म रिलीज हो चुकी हैं, पहली आर्टिकल 370 और दूसरी क्रैक। दोनों का ही सबजेक्ट एक-दूसरे से बिल्कुल अलग है। आर्टिकल 370 जहां एक संजीदा मुद्दे पर बनी फिल्म हैं, जिसे डाक्यूमेंट्री स्टाइल में दिखाने का प्रयास किया गया है, तो वहीं क्रैंक एक एक्शन ड्रामा फिल्म है, जिसके कई सीन्स को देखकर मजा आने वाला है। फिल्म में नेवरसीन एक्शन सीक्वेंस देखने को मिलेंगे। 

यामी गौतम और प्रियामणि स्टारर फिल्म 370, 2 घंटे 40 मिनट की है। यामी गौतम ऑफिसर जूनी हकसर के रोल में हैं। जिन्हें आतंकी बुरहान का एनकाउंटर करने के लिए, अनुशासन भंग करने का आरोप लगाकर कश्मीर से हटा कर दिल्ली भेज दिया जाता है। इसके बाद PM0 की एक अधिकारी राजेश्वरी स्वामीनाथन यानी कि प्रियामणि के कहने पर जूनी को NIA का एजेंट बनाकर दोबारा कश्मीर भेजा जाता है। इस बार जूनी की जिम्मेदारी होती है कि कश्मीर के राजनेताओं, अलगाववादियों और उपद्रवियों से निपटकर हालात नॉर्मल करे। और दिल्ली में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए हर नियम और कानूनी दांवपेच लाए जा रहे हैं। आर्टिकल 370 हटाने के पीछे की स्ट्रैटजी क्या थी, फैसले के पीछे कौन-कौन लोग थे। उस समय का घटनाक्रम क्या था। फिल्म की कहानी ये बताती है। यामी गौतम को एक बार फिल से इस तरह के रोल में देखकर वाकई मजा आता है। उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक के बाद एक बार फिर से उन्होंने अपने काम से ऑडियंस को इम्प्रेस किया है। फिल्म में यामी  अच्छा-खासा एक्शन भी करते दिखती है। वहीं, PM0 में सेक्रेटरी बनीं प्रियामणि ने संजीदगी से अपना रोल निभाया है। जैसा रोल था, वो उसे सटीकता से निभाती हैं। 

गृह मंत्री अमित शाह के रोल में एक्टर किरण करमाकर ने भी कमाल किया है। आर्टिकल 370 हटाते वक्त गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में दिए भाषण को, किरण ने उसी अंदाज में रिपीट करके फिल्मी पर्दे पर परोसा है। हालांकि पीएम मोदी के रोल में अरुण गोविल थोड़े कम फबते हैं। वहीं, अगर डायरेक्शन की बात करें, तो आदित्य सुहास के डायरेक्शन में काफी सारी खामियां दिखती हैं। फिल्म डॉक्यूमेंट्री ज्यादा लगती है। कई सीन बहुत फेक लगते हैं। हालांकि ये भी है कि इतने बड़े मुद्दे को इतने कम स्क्रीन टाइम में दिखाना काफी चैलेंजिंग रहा होगा, इसलिए तथ्यों को जल्दी-जल्दी समेटने की कोशिश की गई है। फिर भी कई जगह डायरेक्टर इंटरेस्ट बनाने में कामयाब हुए हैं। म्यूजिक के नाम पर फिल्म में एक ही गाना है, जो कि बैकग्राउंड में बजता है। 

विद्युत जामवाल, अर्जुन रामपाल, नोरा फतेही और एमी जैक्सन स्टारर फिल्म क्रैक- जीतेगा तो जीएगा, की। फिल्म की लेंथ 2 घंटे 36 मिनट है। कहानी मुंबई के रहने वाले सिद्धार्थ दीक्षित यानी कि अपने हीरो विद्युत जामवाल की है। जो हर वक्त स्टंट और हैरतअंगेज कारनामें करता है। कहानी की शुरुआत भी एक ट्रेन सीक्वेंस के खतरनाक स्टंट से होती है। सिद्धार्थ का सपना है कि वो पोलैंड में हो रहे एक एक्सट्रीम स्पोर्ट्स इवेंट में हिस्सा ले। ये कोई नॉर्मल गेम कॉम्पिटिशन नहीं है, यहां भाग ले रहे कैंडिडेट्स को विनर बनने के लिए अपनी जान की बाजी लगानी होगी। और सिद्धार्थ के पेरेंट्स उसे इस गेम में हिस्सा लेने को मना करते हैं, क्योंकि सिद्धार्थ के बड़े भाई ने इसी गेम की वजह से अपनी जान गंवा दी थी। लेकिन सिद्धार्थ खेल का हिस्सा बनने पोलैंड निकल जाता है। वहां उसकी मुलाकात अर्जुन रामपाल यानी देव से होती है। दो इस गेम का ऑर्गेनाइजर है। सिद्धार्थ को वहां जाकर पता चलता है कि उसके बड़े भाई की मौत धोखे से हुई। यहां से असली कहानी शुरू होती है, क्योंकि अब सिद्धार्थ का लक्ष्य बदल जाता है। वो अब अपने भाई के कातिल को ढूंढना शुरू कर देता है।

अब बात करते हैं एक्टिंग की, हमेशा की तरह विद्युत जामवाल ने अपने एक्शन से प्रभावित किया है। खतरनाक से खतरनाक एक्शन सीक्वेंस को भी उन्होंने बड़ी आसानी से कर दिखाया है। इस फिल्म को देखते समय आप, अर्जुन रामपाल से भी इम्पैस होने वाले हैं। उनके चेहरे के एक्सप्रेशन से लेकर एक्शन सीक्वेंस तक, अच्छा काम किया है। फिल्म की एक्ट्रेसेस में नोरा फतेही और एमी जैक्सन ने ठीक काम किया है। नोरा की ये पहली फुल फ्लेज्ड फिल्म है, इसलिए अनुभव की कमी साफ झलकती है। फिल्म के डायरेक्टर आदित्य दत्त हैं। फर्स्ट हाफ काफी हद तक सही है, लेकिन सेकेंड हाफ का पहला कुछ पोर्शन बोरिंग लगता है। हालांकि फिल्म के स्टंट कोरियोग्राफर रवि वर्मा और सिनेमैटोग्राफर मार्क हैमिल्टन की काफी तारीफ होनी चाहिए। फिल्म के सारे एक्शन सीक्वेंस के बैकग्राउंड में बज रहा म्यूजिक थ्रिल पैदा करता है। ये फिल्म टीनएजर्स को काफी पसंद आ सकती है। गेमिंग और एडवेंचर स्पोर्ट्स के शौकीन लोगों को, काफी पसंद आ सकती है। फिल्म को विद्युत जामवाल ने ही प्रोड्यूस भी किया है। ज्यादातर मीडिय़ा वेबसाइट्स ने आर्टिकल 370 और क्रैक को 3 से 3.5 स्टार्स दिए है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!