भारत में घुल रहा विदेशी रंग! 46% शादीशुदा मर्दो के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर, जानें पूरी रिपोर्ट

Home   >   मंचनामा   >   भारत में घुल रहा विदेशी रंग! 46% शादीशुदा मर्दो के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर, जानें पूरी रिपोर्ट

19
views


इंडियन सोसायटी में 'मैरिज' एक ऐसा रिलेशन है, जिसे हसबैंड-वाइफ लाइफ टाइम लॉयल्टी के साथ निभाते हैं। सात फेरों का बंधन सात जन्मों तक जुड़ जाता है। लेकिन, अब इंडिया में प्यार की परिभाषा बदलती नज़र आ रही है, भारतीय लोगों पर विदेशी रंग चढ़ने लगा है। ऐसा हम नहीं डेटिंग ऐप ग्लीडेन के सर्वे की एक रिपोर्ट में साफ नज़र आ रहा है। जिसमें शादियों में बेवफाई को लेकर चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। आइए जानते हैं क्या वो रिपोर्ट?

एक्स्ट्रा मैरिटल डेटिंग ऐप ने एक स्टडी की है जिसके नतीजों से स्पष्ट होता है कि अब भारतीय शादी से इतर डेटिंग की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। हाल ही में एक्स्ट्रा मैरिटल डेटिंग ऐप ग्लीडन ने शादी, बेवफाई और सांस्कृतिक मानदंडों को लेकर भारत के बदलते नजरिए पर एक स्टडी की है। स्टडी में 25 से 50 साल के बीच के टियर 1 और टियर 2 शहरों के 1,503 शादीशुदा भारतीयों को शामिल किया गया।

रिपोर्ट से पता चला कि स्टडी में शामिल 60 फीसदी से ज्यादा लोग डेटिंग के गैर-पारंपरिक तरीकों को अपना रहे थे, जैसे कि स्विंगिंग - इसमें पार्टनर्स मनोरंजन के लिए दूसरों के साथ संबंध बनाते हैं। स्टडी की रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में ओपन रिलेशनशिप और सिचुएशनशिप का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है। भारत में ऐसा होना थोड़ा हैरान करने वाला है क्योंकि भारतीय समाज में विवाह की अलग ही अहमियत है। शादी को भारत में पार्टनर से कमिटमेंट के रूप में देखा जाता है।

इतना ही नहीं, सर्वे ये भी दावा करता है कि शादी के बाद लोग कपल डेटिंग के अलग-अलग तरीकों को भी आजमा रहे हैं। जैसे- प्लेटोनिक इंटरैक्शन, वर्चुअली फ्लर्ट करना  और अपने पार्टनर के अलावा किसी और के साथ रहने के सपने देखना 


प्लेटोनिक इंटरैक्शन 

इस तरह की बेवफाई में शादी से इतर किसी दूसरे इंसान से शारीरिक संबंध बनाना ही सीमित नहीं है, बल्कि इसमें भावात्मक जुड़ाव भी शामिल है। अगर कोई इंसान शादी से इतर दूसरे इंसान के साथ भावात्मक रूप से जुड़ा है तो इसे बेवफाई माना जाएगा।

स्टडी में देखा गया कि 46 फीसदी पुरुष घर से बाहर अफेयर रखना चाहते हैं, जिनमें सबसे ज्यादा कोलकाता के 52 प्रतिशत पुरुष हैं। ये अलग-अलग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करना जानते हैं। जैसे कि सोशल मीडिया के जरिए, डेटिंग ऐप्स के इस्तेमाल से और व्यक्तिगत रूप से तलाशने में। जबकि, रिपोर्ट में महिलाओं का आंकड़ा कम है। करीब 33 से 35 फीसदी महिलाएं अपने साथी के इतर दूसरे के साथ अफेयर करने के ख्यालों में हैं।


वर्चुअली फ्लर्ट करना  

डिजिटल दुनिया में, ऑनलाइन फ्लर्ट बेवफाई का एक सामान्य रूप बन गया है. रिपोर्ट से पता चलता है कि 36 प्रतिशत महिलाओं और 35 प्रतिशत पुरुषों को वर्चुअल फ्लर्टिंग लुभाती है। इसमें देखा गया कि सबसे ज्यादा 35 प्रतिशत कोच्चि के लोगों ने इसमें रुचि दिखाई।

अपने पार्टनर के अलावा किसी और के साथ रहने के सपने देखना (33-35 प्रतिशत)

ये अब आम हो गया है और अपने साथी के अलावा किसी और के बारे में सोचना कोई बड़ी बात नहीं मानी जाती है. आंकड़ों से पता चलता है कि 33 फीसदी पुरुष और 35 फीसदी महिलाएं खुलेआम ऐसी कल्पनाएं करने की बात स्वीकार करते हैं।


Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!