Friendship Marriage: जापान में बढ़ रहा एक अनोखी शादी का ट्रेंड

Home   >   मंचनामा   >   Friendship Marriage: जापान में बढ़ रहा एक अनोखी शादी का ट्रेंड

30
views

प्लैटोनिक पार्टनर की तरह साथ में रहते कपल्स

मेरा लाइफ पार्टनर कैसा होगाउसका नेचर पसंद आएगा कि नहींउनकी हॉबी मुझे पसंद आएगी कि नहीं? जब हम शादी करते हैं तो इस तरह के तमाम कंफ्यूजन हमारे दिमाग में घूमते हैं। लव मैरिज में तो ये समस्या कुछ हद तक कम होती है। लेकर अरेंज मैरिज में तो लड़का-लड़की एक-दूसरे से बिल्कुल अनजान होते हैं। तो जापान के युवाओं ने इस समस्या से निपटने के लिए एक तोड़ निकाल लिया है - 'फ्रेंडशिप मैरिज।' 'साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्टके मुताबिक 'एक नए प्रकार के रिश्ते 'फ्रेंडशिप मैरिजमें प्लैटोनिक पार्टनर की तरह साथ में रहा जाता है।' यानी इस रिश्ते में किसी फिजिकल अटैचमेंट के कपल्स एक-दूसरे के साथ रहते हैं और कानूनी रूप से भी इन्हें साथ में रहने से कोई नहीं रोक सकता।

जापान के सैकड़ों युवा चुन रहे 'फ्रेंडशिप मैरिज'

जापान दुनिया का 11वां सबसे ज्यादा पॉपुलेशन वाला देश,  सबसे बड़ी और सबसे विकसित अर्थव्यवस्थाओं में से एक। इस देश में इन दिनों फ्रेंडशिप मैरिज का चलन तेजी से बढ़ा है। सैकड़ों कपल्स इस तरह के रिश्ते को चुन कर रह रहे हैं। ये कोई ट्रेडिशनललव या अपने बेस्ट फ्रेंड से शादी करने जैसा नहीं हैबल्कि ये ऐसी व्यवस्था है जिसमें कपल्स आमतौर पर शादी से पहले मिलते हैं और अपने जीवन से जुड़ी सभी बातों जैसे... एक साथ खाना खाना पसंद है या नहींहम अपने खर्चों को कैसे बांटेंगेघर के काम कैसे करेंगेएक-दूसरे की हॉबी क्या है इस तरह की तमाम बातों पर सहमत होने के लिए एक साथ रहते हैं।

एक तरह का होता कॉन्ट्रैक्ट

'फ्रेंडशिप मैरिज' में कपल्स कानूनी तौर पर तो एक-दूसरे से शादीशुदा होते हैं। 'फ्रेंडशिप मैरिजमें कपल्स के बीच प्यार तो होता हैलेकिन किसी भी तरह का रिलेशनशिप नहीं बनता है। अपनी सुविधा के अनुसार ये कपल्स साथ में या अलग-अलग भी रह सकते हैं। साथ ही अगर वो बच्चे की प्लानिंग करना चाहते हैंतो नार्मल तरीके से नहीं किसी और तकनीकी को अपनाकर बच्चे को जन्म दे सकते हैं। 'साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्टकी एक रिपोर्ट के मुताबिक जापान में करीब 500 कपल्स इस तरह की शादी कर चुके हैं। ऐसे कपल्स ने घर बसाया है और कुछ ने बच्चों का पालन-पोषण भी किया है। अनरोमांटिक लगने के बावजूद  इस तरह के रिश्ते ने करीब 80% फीसदी कपल्स को खुशी से साथ रहने में मदद की है। फ्रेंडशिप मैरिज करने वाले 32 से 35 साल की उम्र के ये कपल्स पढ़े-लिखे और अच्छी नौकरी कर रहे हैं।

क्या भारत में भी हो रही 'फ्रेंडशिप मैरिज'?

'ये बहुत ही अच्छी चीज हैफ्रेंडशिप मैरिज के दौरान अगर दो लोग एक-दूसरे के करीब आते हैंतो लाइफ पार्टनर बनाने का फैसला लेकरशादी भी कर सकते हैं।' जापान के अलावा सिंगापुर में भी फ्रेंडशिप मैरिज का ट्रेंड चल रहा है। यहां भी कई कपल्स हैं जो इस तरह के रिश्तें में एक साथ रह रहे हैं। वहीं भारत में अभी ये ट्रेंड नहीं हैं। इससे इतर भारत में कपल्स लिव इन रिलेशनशिप यानी बिना शादी के एक साथ में जरूर रह रहे हैं। लिव इन रिलेशनशिप में कानूनी रूप से तो कोई दिक्कत नहीं है पर नैतिकता के हिसाब से ये समाज में अच्छा प्रभाव नहीं डालता है।

हिंदू धर्म में होते 08 प्रकार के विवाह

भारत में अलग-अलग धर्मों के लिए शादी को लेकर अलग-अलग रीति रिवाज है। अगर हिंदू धर्म की बात करें तो इसमें आठ प्रकार के विवाह का जिक्र मिलता है।

1. ब्रह्म विवाह : दोनों पक्ष की सहमति से किसी सुयोग्य लड़के से लड़की की शादी करना।

2. दैव विवाह : किसी सेवा कार्य के मूल्य के रूप अपनी लड़की को दान में दे देना।

3. आर्श विवाह: लड़की वालों को लड़की का मूल्य देकर शादी करना।

4. प्रजापत्य विवाह : लड़की की मर्जी के खिलाफ उसकी शादी अभिजात्य वर्ग के लड़के से करना

5. गंधर्व विवाह : परिवार वालों की सहमति के बिना लड़के और लड़की का बिना किसी रीति-रिवाज के आपस में शादी करना।

6. असुर विवाह : लड़की को खरीद कर शादी करना।

7. राक्षस विवाह : लड़की की सहमति के बिना उसका किडनेप करके जबरदस्ती शादी करना।

8. पिशाच विवाह : लड़की की मदहोशी का लाभ उठा कर शादी करना।

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!