जापान, चीन और साउथ कोरिया में लोग बच्चे पैदा करने से दूरी बना रहे

Home   >   मंचनामा   >   जापान, चीन और साउथ कोरिया में लोग बच्चे पैदा करने से दूरी बना रहे

31
views

साल 2023 में जापान, साउथ कोरिया और चीन की डेमोग्राफी क्राइसेस रेशियो और भी नीचे रहा। अरबो की प्रोत्साहन राशि खर्च करने के बाद भी यहां कुछ खास फर्क नहीं पड़ा।

एशिया महाद्वीप के तीन देश, बर्थ रेट में लगातार गिरावट का सामना कर रहे हैं। ये तीन देश चाइना, जापान और साउथ कोरिया हैं। इन तीनों देशों में लोग बच्चा पैदा करने से दूर भाग रहे हैं। जबकि यहां कि गर्वनमेंट्स बच्चे पैदा करने के लिए सब्सिडी का लालच तक दे रही हैं।एक्सपर्ट्स का मानना है कि जीवन का गुजारा करना, बच्चों की एजुकेशन में लगने वाली कॉस्ट, स्टेबल सैलेरी और शादी, बच्चों को लेकर सोसायटी का नजरिया इसका जिम्मेदार है। साल 2023 में इन देशों का डेमोग्राफी क्राइसेस रेशियो और भी नीचे रहा। अरबो की प्रोत्साहन राशि खर्च करने के बाद भी यहां कुछ खास फर्क नहीं पड़ा। साउथ कोरिया, जापान और चाइना तीनों ही टैक्नोलॉजी में अव्वल और डेवलप कंट्रीज हैं। इन देशो को लेकर आंकडे क्या कहते हैं, चलिए एक-एक करके जानते हैं

साउथ कोरिया

Tourist Places In South Korea,अपने फेमस 'BTS Boy Band' और 'K-Drama' के  अलावा इन खास जगहों की वजह से भी मशहूर साउथ कोरिया - places to visit in south  korea in hindi -

साउथ कोरिया का फर्टिलिटी रेट, जो पहले से ही दुनियाभर में सबसे कम है, 2023 में गिरकर एक नए रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया। statistics korea के आंकड़ें देखें, तो पता चलता है कि एक साउथ कोरियन विमेन के प्रजनन जीवन यानी कि रिप्रोडक्टिव लाइफ के दौरान एक्सपेक्टेट चाइल्ड का एवरेज नंबर 2022 में 0.78 से गिरकर 0.72 हो गया है। करीब 50 मिलियन पॉपुलेशन वाले साउथ कोरिया में बर्थ रेट 7.7 परसेंट हुआ है। साउथ कोरिया में बच्चे को जन्म देने की औसत आयु 33.6 साल है, जो ओईसीडी यानी कि Organisation for Economic Co‑operation and Development में सबसे ज्यादा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहले अनुमान लगाया गया था कि 2024 में इसकी फर्टिसिटी रेट में 0.68 परसेंट तक गिरावट की कमीं है। द गार्जियन के मुताबिक, 2006 से साउथ कोरिया ने कपल्स के लिए कैश सब्सिडी, बच्चों की देखभाल सेवाओं और बांझपन यानी कि इनफर्टिलिटी के ट्रीटमेंट जैसी योजनाओं पर 270 अरब डॉलर से ज्यादा खर्च किया है। 

चाइना

चीन से मेरी मुलाकात - all the information you need to know about travelling  to china | Navbharat Gold

साल 2023 में चाइना की पॉपुलेशन में लगातार दूसरे साल गिरावट आई है। कम बर्थ रेट और सख्त लॉकडाउन खत्म होने पर कोविड महामारी से हुई मौतों की लहर ने मंदी को तेज कर दिया। इसको लेकर एक्सपर्ट्स का कहना है कि इसका असर चाइना की इकोनॉमी की ग्रोथ पर लॉग टाइम में देखने को मिलेगा। साल 1980 में चाइना ने वन चाइल्ड पॉलिसी रखी थी, जिसका असर अब देश को तेजी से बूढ़े होते देश के तौर पर दिख रहा है। चीन के नेशनल स्टैटिक्स ब्यूरो ने कहा कि 2023 में चीन में लोगों की कुल संख्या 0.15 प्रतिशत घटी है। MSMP के मुताबिक, रहने और एजुकेशन की हाई कॉस्ट की वजह से चाइना के पेरेंट्स बच्चे पैदा नहीं कर रहे है। जबकि चाइनीज गर्वनमेंट भी सब्सिडी के साथ कई प्रोत्साहन दे रही है। बिजनेस इनसाइडर के मुताबिक, सरकार पेरेंट्स को तीसरा बच्चा पैदा करने पर 2,800 डॉलर दे रही है। 

जापान 

visiting japan becomes expensive tourists have to give sayonara tax during  leaving the country - जापान में घूमना हो गया महंगा, देना पड़ेगा 'विदाई'  टैक्स, Business News - Hindustan

साउथ कोरिया और चाइना का पड़ोसी देश जापान भी इसी समस्या से परेशान है। जापान में हाल ही में घोषणा की गई कि साल 2023 में वहां जन्में बच्चों की संख्या भी गिरकर एक नए निचले स्तर पर पहुंच गई है। आपको बता दें, जापान तेजी से बूढ़े होता हुआ देश है। मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड वेलफेयर के मुताबिक, 2023 में जापान में 7,58,631 बच्चों का जन्म हुआ, जो बीते साल की तुलना में 5.1 परसेंट कम है। जापान में शादियों की संख्या में भी गिरावट आई है। ये 5.9 परसेंट गिरी है। फॉरेन पॉलिसी की रिपोर्ट के मुताबिक, जापान ने 2023 में घोषणा की है कि वो अपनी कम जन्मदर को ठीक करने के लिए 22 बिलियन डॉलर खर्च करेंगे। इसमें 2023 की शुरुआत तक बच्चों की देखभाल पर खर्च को दोगुना करना और बाल नकद लाभ के लिए आय सीमा बढ़ाना शामिल है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि जीवन यापन, बच्चों की एजुकेशन में लगने वाली कॉस्ट, स्टेबल सैलेरी और शादी, बच्चों को लेकर सोसायटी का नजरिया लैंगिक असमानता इसका जिम्मेदार है। साथ ही महिलाओं को करियर और घर के बीच एक को चुनने के बीच के संघर्ष को भी इसका जिम्मेदार माना जा सकता है। 

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!