जब इंदिरा गांधी को लगा सैम मानेकशॉ सरकार का तख़्ता पलट कर देंगे

Home   >   मंचनामा   >   जब इंदिरा गांधी को लगा सैम मानेकशॉ सरकार का तख़्ता पलट कर देंगे

382
views

भारत के पहले ऑफिसर जिन्‍हें फील्‍ड मार्शल बनाया गया, नाम सैम मानेकशॉ उनके ऊपर फिल्म बन रही है, सैम बहादुरफिल्म में विक्की कौशल सैम मानेकशॉ और फातिमा शेख इंदिरा गांधी का रोल निभा रहे हैं। ट्रेलर के इस सीन में इंदिरा गांधी और सैम मानेकशॉ दोनों के बीच कुछ बातचीत हो रही है।

इसमें इंदिरा गांधी कहती हैं-

सैम कुछ करने का इरादा तो नहीं

मानेकशॉ कहते हैं-आपको क्या लगता है

इंदिरा गांधी इस बार आंखों में अग्रेशन भर कहती हैं- तुम नहीं कर सकते

मानेकशॉ कहते हैं - कर नहीं सकता या करूंगा नहीं, काबिलियत और नीयत का फर्क है प्राइम मिनिस्टर

ट्रेलर में दिखाया गया ये सीन सिर्फ फिल्मी नहीं है, बल्कि इसके पीछे बेहद रोमांचक किस्सा है, बताया जाता है इंदिरा गांधी के सामने कोई आंख उठाकर बात करने में भी कतराता था, लेकिन एक समय पर इंदिरा गांधी को सैम मानेकशॉ से तख्तापलट का खतरा लग रहा था।सैम मानेकशॉ को कई बहादुरी के लिए जाना जाता है, जिसमें भारत-पाकिस्तान 1971 जंग का नेतृत्व भी एक है। 1971 की जंग पाकिस्तान की हार और बांग्लादेश के जन्म के लिए जाना जाता है।

साल 2002 में मानेकशॉ ने अपने पोते से बातचीत में इंदिरा गांधी से हुई इस बारे में अपनी बातचीत को लाइन-टू-लाइन बताया था।  बात 1971 की है, भारत-पाकिस्तान जंग के बीच ही अफवाह उड़ी कि मानेकशॉ आर्मी की मदद से सरकार का तख्ता पलट करने की कोशिश करने वाले हैं। कहते हैं कि उस समय मानेकशॉ की लोकप्रियता काफी थी, इसी के चलते पीएम इंदिरा ने इस बात को बड़ी गंभीरता से लिया था

इंटरव्यू में मानेकशॉ खुद बताते हैं कि शाम 4 बजे थे, मैं अपने ऑफिस में चाय पी रहा था, मिसेज गांधी का फोन आया, वो पार्लियामेंट हाउस में थीं। उन्होंने पूछा-सैम बिजी हो, मैंने कहा- आर्मी चीफ हमेशा बिजी रहता है, लेकिन इतना बिजी कभी नहीं रहता कि अपने प्राइम मिनिस्टर से बात कर सके। उन्होंने कहा क्या आप सकते हो, मैंने कहा मैं यहां चाय पी रहा हूं, उन्होंने कहा-मैं तुम्हें चाय दूंगी

फिर सैम बताते हैं कि मैं संसद भवन में उनके कार्यालय में पहुंचा, तो इंदिरा गांधी अपने सिर पर हाथ रखे बैठी थीं। मैंने उनका हाल पूछा, तो उन्होंने कहा मुझे कई परेशानियां हैं, मानेकशॉ ने कहा- कोई परेशानी है तो मेरे कंधे पर सिर रखकर रो लो, क्या परेशानी है मुझे बताओ...! उन्होंने सीधे मेरे चेहरे की तरफ देखा और कहा कि तुम ही मेरी परेशानी हो। मैंने कहा, मैंने क्या कर दिया अब? मैंने कुछ कह दिया या कर दिया, क्या किया। तो उन्होंने छूटते ही कहा कि लोग बात कर रहे हैं कि तुम तख्तापलट करना चाहते हो।

सैम ने बताया था कि उन्होंने इंदिरा गांधी से तब पूछा था कि आपको क्या लगता है। इस पर इंदिरा गांधी ने साफ कहा कि तुम तख्तापलट नहीं कर सकते हो।' तो सैम ने कहा, 'मैंने इंदिरा गांधी से पूछा कि आपको इतना भरोसा क्यों है कि मैं तख्तापलट नहीं कर सकता हूं। क्या मैं इतना नाकाबिल हूं? इंदिरा ने जवाब दिया कि मेरा वो मतलब नहीं था सैम, तुम तख्तापलट करोगे ही नहीं...

वो आगे बताते हैं कि

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!