Sore/Strep Throat : एक नहीं अलग-अलग है समस्या

Home   >   आरोग्य   >   Sore/Strep Throat : एक नहीं अलग-अलग है समस्या

37
views

गला प्रभावित होने से होती समस्या

हमारा गला नाक और मुंह के पीछे एक मांसपेशी ट्यूब की तरह है जो हवा, खाना और पानी के लिए रास्ते के रूप में काम करेगी।  मुंह और नाक को श्वास नली, खाने की नली और फेफड़े से जोड़ता है। गला - बोलने में भी सहायता करता है। अगर किसी भी वजह से ये प्रभावित हो जाए तो दर्द, सूजन, खाने-पीने और बोलने में दिक्कत होने लगती है। पहली स्ट्रेप थ्रोट और दूसरी सोर थ्रोट। ये दो अलग – अलग समस्याएं हैं। लेकिन ज्यादातर लोग इन्हें एक ही समझते हैं।

क्या होता है सोर थ्रोट?

सोर थ्रोट में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जैसे टॉन्सिल्स, गले मे खराश, बात करने और खाने में दर्द महसूस, रूखापन, इरिटेशन, सूजन, खुजली और कई बार जलन जैसा महसूस होता है।

सोर थ्रोट के लक्षण और कारण?

खांसी, नाक में कंजेशन, सिर दर्द, भूख न लगना, कर्कश आवाज और ज्यादा छींक आती हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ की रिपोर्ट के मुताबिक जुकाम, फ्लू, एलर्जी और वायरल इंफेक्शन सोर थ्रोट की वजह बन सकता है।

क्या होता है स्ट्रेप थ्रोट?

स्ट्रेप थ्रोट एक संक्रामक रोग है जो जीवाणु ए स्ट्रेप्टोकॉकस से फैलता है। इससे पीड़ित व्यक्ति को तेज बुखार, गले में सूजन और दर्द होता है। ये किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। खासकर बच्चों को स्ट्रेप थ्रोट की शिकायत ज्यादा होती है।

स्ट्रेप थ्रोट के लक्षण और कारण?

यूनिवर्सिटी हेल्थ न्यूज की वेबसाइट की एक खबर के मुताबिक मुंह में छाले, पेट में दर्द, सिरदर्द, गले में खराश, बुखार, उल्टी होना, भूख न लगना जैसी समस्या हो रही है तो ये सभी लक्षण स्ट्रेप थ्रोट के हो सकते हैं। ये एक संक्रामक रोग है। इसमें जीवाणु के संपर्क में आने के बाद आंख, कान और गले को छूने से व्यक्ति संक्रमित हो जाता है। संक्रमित व्यक्ति के छींकने और खांसने पर दूसरा व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है।

क्या है इलाज?

इन समस्याओं का घरेलू नुस्खों से इलाज कर सकते हैं। सामान्य लक्षणों में गुनगुने पानी में नमक मिलाकर गरारे करने से आराम मिलेगा। गुनगुने पानी में नीबू और शहद मिलाकर पीने से राहत भी राहत मिलती है। अगर ज्यादा परेशानी हो, तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर रैपिड स्ट्रेप टेस्ट, थ्रोट कल्चर टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं। जिससे गले की असल समस्या पता चल जाएगी।

कैसे करें बचाव?

•         हाइजीन का ख्याल रखें।

         खाना शेयर मत करें।

         कोई भी सामान साझा न करें।

         मुंह पर मास्क लगाएं। 

         खाना खाने से पहले हाथ धोएं।

         चेहरे को छूने से पहले हाथ धोएं।

         कभी चीज को छूने के बाद हाथ धोएं।

         गुनगुना पानी पिएं।

         धूम्रपान से बचें।

डिस्क्लेमर :

ये जानकारी सिर्फ सामान्य सूचना के लिए है। किसी भी तरह की  दवा या इलाज के बारे में नहीं है। अगर आपको कोई परेशानी हो, कोई भी दिक्कत हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं उन्ही की ही सलाह मानें।

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!