आजकल यंगस्टर्स के बीच काफी फेमस, 5-4-3-2-1 ग्राउंडिंग तकनीक क्या है?

Home   >   आरोग्य   >   आजकल यंगस्टर्स के बीच काफी फेमस, 5-4-3-2-1 ग्राउंडिंग तकनीक क्या है?

30
views

54321 टेक्निक ब्रेन में चल रहे तमाम तरह के ख्यालों के बीच, हमारा सारा ध्यान वर्तमान की तरफ खींच लाता है. जिससे चिंता कम होती है और पैनिक अटैक को दूर करने में मदद मिलती है.

एंग्जायटी का नाम सुनते ही और भी एंग्जायटी होने लगती है. लेकिन इससे बचने के लिए फाइव सेंस ग्राउंडिंग टेक्निक आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है. शायद इसे आपने 5-4-3-2-1 टेक्निक नाम से सुना हो. योगा, मेडिटेशन पर ध्यान देने वाले यंगस्टर्स के बीच ये काफी पॉपुलर भी है. घर, ऑफिस या किसी और जगह भी मुश्किल से 5 मिनट देकर आप एंग्जाइटी को दूर भगा सकते हैं. ये तकनीक हमारे शरीर के 5 सेंसेस से जुड़ी है. हमारी पांचों इंद्रियों यानी आंख, कान, नाक, जीभ और त्वचा से जुड़ी है. 54321 टेक्निक  ब्रेन में चल रहे तमाम तरह के ख्यालों के बीच, हमारा सारा ध्यान वर्तमान की तरफ खींच लाता है. जिससे चिंता कम होती है और पैनिक अटैक को दूर करने में मदद मिलती है. 

चिंता तब होती है, जब आमतौर पर पास्ट या फ्यूचर के बारे में ज्यादा सोच रहे हो. इस तकनीक से दौड़ते हुए दिमाग को शांति मिलती है और शरीर भी रिलैक्स महसूस करता है. इसे फॉलो करने का प्रोसेस बेहद सिंपल है. जब आपको लगे कि तनाव शरीर पर असर डाल रहा है. तो सबसे पहले लंबी सांसे लीजिए. और 54321 को डिकोड करते हुए फॉलो करे. जैसे सबसे पहले आप आपने आस-पास की मौजूद 5 चीजों को देखिए, या उनका नाम लीजिए. जिस कमरे में आप है, उसकी पेंटिंग, कुर्सी, सामने रखा गुलदस्ता, कोई भी 5 चीजों को देखें, या उनके नाम लें.

फिर 4 चीजों को छुइए, जो आस-पास मौजूद हो. इसमें पानी की बोतल, दीवार या कोई भी 4 चीजें हो सकती है. फिर 3 तरह की अलग-अलग आवाजों पर फोकस करिए. जैसे सांस लेने की आवाज, ट्रैफिक की आवाज, या फिर किसी भी तरह की आवाज, जो भी आपके आस-पास आ रही हो. फिर दो चीजों को सूघने की कोशिश करें. जैसे परफ्यूम, फूल, चाय या काफी की स्मैल कोई भी दो चीजें. फिर लास्ट में कोई भी एक चीज taste करिए. इस तरह से आप शरीर की पांचों इंद्रियों का इस्तेमाल करते हैं. और साइकोलॉजी के हिसाब से दिमाग को वर्तमान पर फोकस करने का सिग्नल जाता है. जब आप वर्तमान पर फोकस करते हैं, तो चिंता कम होती है और शरीर भी रिलैक्स महसूस करता है. 

वैसे, 54321 तकनीक एक आजमाई और परखी हुई तकनीक है, जो शरीर को अति-उत्तेजित स्थिति से बैलेंस स्टेट में वापस लाने में मदद करती है. ये तकनीक तनाव को कुछ समय के लिए दूर करने में मदद करेगी, जिससे व्यक्ति शांत होकर बेहतर तरीके से स्थिती को संभालता है.जब आप तनाव महसूस करें, तो सबसे पहले अपनी सांस पर ध्यान देना शुरू करें। क्योंकि जब हम धीमी और गहरी सांस लेते हैं, तो ये हमारे दिमाग को और ज्यादा शांत स्थिति में लाता है. एक्ट्रेस और माइंडफुलनेस स्पीकर रागेश्वरी लूम्बा ने इस तकनीक के बारे में बात करते हुए कहा था कि ये कहीं भी किया जा सकता है.

वहीं, योगा कोच तारिका कहती हैं कि ये तकनीक एक सरल ग्राउंडिंग अभ्यास है जो दौड़ते दिमाग को शांत करने और आपको वर्तमान में वापस लाने में मदद कर सकती है और आपको ये एहसास दिलाने में मदद कर सकती है कि आप सुरक्षित और नियंत्रण में हैं। विशेष रूप से ये मुझे पसंद है क्योंकि ये आपकी सभी पांच इंद्रियों को शामिल करता है. हालांकि गंभीर स्थिती के लिए इसे अचूक नहीं कहा जा सकता है. अगर कंपन या पैनिक अटैक जैसी कोई भी बात हो, तो डॉक्टर से तुरंत मदद लेनी चाहिए.

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!