आठ महीने बाद सोने के दाम में आ सकती गिरावट !

Home   >   धनतंत्र   >   आठ महीने बाद सोने के दाम में आ सकती गिरावट !

315
views

भारतीयों को गोल्ड से प्यार के बारे में तो जानते ही होंगे। हम और आप तरह-तरह के सोने के जेवर पहने का शौक रखते है। लेकिन अब सोने को पहनने से ज्यादा उसे इन्वेस्ट करने में ज्यादा फायदा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक सोना अब शेयर मार्केट और बैंक में एफडी से भी ज्यादा रिटर्न देगा।

पिछले दिनों संसद में वित्त मंत्री सीतारमण ने देश का बजट पेश किया और उसके बाद से सोने की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है। मार्केट के एक्सपर्टस मानते हैं इस समय पूरे विश्व में मंदी की आहट है रूस-यूक्रेन का युद्ध हो रहा है इसलिए ग्लोबल मार्केट में सोने की कीमतों में तेजी आई है जिसकी वजह से डोमेस्टिक मार्केट में भी सोने की कीमत बढ़ी है। 24 कैरेट का सोना 60,700 प्रति 10 ग्राम तक पहुंच चुका है। इन दिनों शादियों का सीजन है खरीदारी जोर पकड़ेगी तो सोने के भाव में और असर पड़ेगा।

इसके इतर 2020-21 में कोरोना से दुनियाभर की इकनोमीस बुरी तरह प्रभावित हुईं। लॉकडाउन लगा तो इडस्ट्रीयल प्रोडक्शन थमा और इस दौरान सोने में इनवेस्टमेंट बढ़ा। 2022 में बाजार खुले। डिमांड बढ़ी तो महंगाई चढ़ी। इसके बाद सरकारों ने सख्त कदम उठाए बाजार गिरे तो फिर इनवेस्टर ने सोने में इनवेस्ट किया।

एक रिपोर्ट के मुताबिक '15 साल में सोने ने 366% का रिटर्न दिया, जो शेयर मार्केट से 179% और एफडी से 164% तक ज्यादा है। मार्केट के एक्सपर्ट मानते हैं कि 2023 में भी सोना 10% से ज्यादा रिटर्न देगा।'

ब्रोकरेज फर्म आईसीआईसीआई डायरेक्ट की रिपोर्ट के मुताबिक  ‘इस साल सोना 63 हजार रुपये/10 ग्राम व चांदी 80 हजार रुपये प्रति किलो तक पहुंच सकती है।’

एक न्यूज पेपर में छपी खबर के मुताबिक क्वांटम एसेट मैनेजमेंट के चीफ इन्वेस्टमेंट ऑफिसर (सीआईओ) चिराग मेहता कहते हैं,

‘बढ़ती महंगाई दुनियाभर के लिए एक चुनौती है। इसे नियंत्रित करने के लिए दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरों में काफी इजाफा कर दिया है। इससे शेयर बाजार और बॉन्ड दोनों में निवेश करने वालों को खास मुनाफा होने की उम्मीद नहीं है। निवेशक रिटर्न के लिए सोने पर ही ज्यादा भरोसा करते दिख रहे हैं।’

ऑल इंडिया ज्वैलरी एंड गोल्ड स्मिथ फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज अरोड़ा बताते है कि

‘सोना विदेशों से डॉलर में आयात होता है। इसलिए डॉलर की मजबूती से भारतीय बाजारों में भाव दोगुने हो गए। 08 से 09 महीने बाद बाजार में तेजी लौट आएगी तब सोने के दाम भी नीचे आ सकते हैं।’

जरूरी नहीं है कि आप फिजिकल गोल्ड ही खरीदें आप गोल्ड बॉन्ड भी खरीद सकते है जिसकी कीमत फिजिकल गोल्ड के बराबर होती है।

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!