Actor - Comedian OM PRAKASH का पहली फिल्म मिलने का किस्सा बड़े मजेदार है।

Home   >   रंगमंच   >   Actor - Comedian OM PRAKASH का पहली फिल्म मिलने का किस्सा बड़े मजेदार है।

154
views

बॉलीवुड के लीजेंड एक्टर ओम प्रकाश जिसके सामने दिलीप कुमार से लेकर अभिताभ बच्चन तक एक्टिंग करने में घबराते थे। इन्होंने अपने कॉमिक अंदाज से लोगों को ख़ूब हंसाया। लेकिन जब इन्होंने फिल्मों में काम करना शुरू किया तब वे विलेन का किरदार निभाते थे।

एक्टर ओमप्रकाश ने अपनी ऑटोबायोग्राफी लिखी है। वे इसमें लिखते हैं कि बात 1944 के आसपास की हैं। एक बार ओमप्रकाश अपने किसी दोस्त की शादी में गए थे वहां अपनी कॉमेडी से लोगों को हंसा रहे थे उनको हंसाते देख लोगों की वहां भीड़ लग गई। इसी शादी में लाहौर के मशहूर फिल्म प्रड्यूसर दलसुख पंचोली आए हुए थे। लोगों की भीड़ देखकर उन्होंने वहां एक वेटर से पूछा कि वहां क्या हो रहा है, क्या कोई सेलिब्रिटी या फिल्म स्टार आया हुआ है? वेटर बोला, जनाब मेरी जानकारी में ऐसा कुछ नहीं है। दलसुख पंचोली से रहा नहीं गया फिर उन्होंने किसी दूसरे वेटर से पूछा कि ये भीड़ क्यों लगी हुई है। तब एक वेटर ने उनसे कहा, जनाब ये दूल्हे का एक दोस्त है, जिसने हंसा-हंसा कर लोगों का बुरा हाल कर रखा है। दलसुख पंचोली उस हंसी मज़ाक वाले माहौल को देखकर बड़े प्रभावित हुए और वेटर को एक चिट्ठी लिखकर देते हुए कहा कि इसे उस शख्स को दे देना, जो सबको हंसा रहा है। चिट्ठी पाकर ओमप्रकाश दलसुख पंचोली से मिलने पहुंचे वहां दलसुख ने उनसे कहा कि मेरी फिल्म में काम करोगे। इस पर ओमप्रकाश ने हामी भर दी। उनको 80 रुपये देकर फिल्म 'दासी' के लिए साइन कर लिया गया। दासी ही उनके करियर की पहली फिल्म थी। इस सुपरहिट फिल्म में उनका एक विलेन का किरदार था। इसके बाद इनते जीवन में कई उतार चढ़ाव आए ये वक्त भा आया जब इनके पास खाने के लिए पैसे भी नहीं थे। साल 1948 में आई  फिल्म लखपति से इन्होने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 19 दिसंबर 1919 को जम्मू में जन्मे ओम प्रकाश ने दर साल लगभग 56 सालों के करियर में 350 से ज्यादा फिल्मों में काम किया। जिसमें अपने कॉमिक अंदाज से लोगों को ख़ूब हंसाया। इमोशन से भरे सीन ये अपनी एक्टिंग से लोगों के आंखों में आंसू ले आया करते थे। इन्होंने दो फिल्मों का डायरेक्शन व प्रोडक्शन भी किया है। 19 फरवरी साल 1998 को  ओमप्रकाश दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह गए। इसकी फिल्मों के जरिये ओमप्रकाश हम सबके बीच हमेशा रहेंगे। 

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!