ओडिशा के बालासोर ट्रेन हादसे के बाद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव पर विपक्ष का तंज, उठ रही इस्तीफे की मांग

Home   >   खबरमंच   >   ओडिशा के बालासोर ट्रेन हादसे के बाद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव पर विपक्ष का तंज, उठ रही इस्तीफे की मांग

105
views

2 जून की रात देश को झकझोंर कर रख देने वाली खबर सामने आई कि ओडिशा के बालासोर में तीन ट्रेनों के आपस में टकराने से ऐसा भीषण और दर्दनाक हादसा हुआ कि करीब 300 लोगों की जान चली गई और करीब 900 लोग इस हादसे में घायल हो गए। राहत और बचाव कार्य के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान बचाने की कोशिश हुई। इस हादसे के बाद जहां एक तरफ ट्रेनों में यात्रियों की सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे है तो वहीं सोशल मीडिया पर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के कुछ पुराने वीडियो वायरल हो रहे है जिसमें वो रेलवे की कवच स्कीम की खूबियों को समझाते हुए नजर आ रहे है। इन वीडियो को लेकर विपक्ष अब लगातार उन पर सवाल उठा रहा है और साथ ही रेल मंत्री के इस्तीफे की मांग भी कर रहा है। क्या है पूरा मामला, आइए समझते है।

ओडिशा के बालासोर में बहनागा बाजार स्टेशन के पास कोरोमंडल ट्रेन हादसे ने पूरे देश को हिला कर रख दिया। इससे पहले कभी कोई ऐसा ट्रेन हादसा नहीं हुआ जब 3 ट्रेनें आपस में टकराई हो और इतने लोगों ने अपनी जान गवाई हो। घंटो तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद कई लोगों की जान तो बचा ली गई लेकिन बहुत से परिवारों ने अपने अपनों को हमेशा के लिए खो दिया। हादसा होने के बाद जो तस्वीरों सामने आई है वो इतनी दर्दनाक थी कि इसे देखकर ही वहां की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता था। इस दौरान राज्य के CM नवीन पटनायक और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। अश्विनी वैष्णव घटनास्थल पर पहुंचे और मौके पर मौजूद अधिकारियों से बात कर हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया। पत्रकारों से बात करने के दौरान जब उनसे सवाल किया गया कि क्या वो इस हादसे के बाद अपना इस्तीफा देंगे तो उन्होंने अपने इस्तीफे को लेकर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। उनका यही कहना था कि अभी हमारा पूरा फोकस रेस्क्यू ऑपरेशन पर है। यह बहुत बड़ी घटना है।

इस हादसे के बाद अब विपक्ष लगतार उनके इस्तीफे की मांग कर रहा है.... ncp प्रमुख अजीत पवार ने कहा कि जब पहले ऐसे हादसे होते थे तो रेल मंत्री इस्तीफा दे देते थे लेकिन अब कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है। इसी के साथ कांग्रेस सांसद मणकम टैगोर ने एक रीट्वीट किया जिसमें साल 1956 के समय का लाल बहादुर शास्त्री के उस लेटर की तस्वीर है जब उन्होंने रेल मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। साथ ही अब कई अन्य सोशल मीडिया यूजर्स भी इस तस्वीर को ट्वीट करते हुए रेल मंत्री के इस्तीफे की मांग उठा रहे है। ये लेटर सोशल मीडिया पर तेजी ये वायरल हो रहा है।

बता दें कि साल 1956 में जब नवंबर में तमिलनाडु में अरियालुर ट्रेन दुर्घटना में करीब 142 लोग मारे गए थे, तो उस वक्त दुर्घटना के लिए नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए रेल मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसी तरह साल 1999 में असम में हुए गैसल ट्रेन दुर्घटना में करीब 290 लोगों की जान चली गई थी जिसके बाद उस वक्त के रेल मंत्री रहे नीतीश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इन्हीं घटनाओं का जिक्र करते हुए अब वर्तमान रेल मंत्री से भी उनके इस्तीफे की मांग की जा रही है।

यहीं नहीं रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव का एक पुराना वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है जिसमें वो कवच स्कीम की खूबिय़ों को demonstrate करते यानि समझाते हुए नजर आ रहे है। बता दे साल 2022 में 2,000 किलोमीटर तक के रेल नेटवर्क को ‘कवच’ के तहत लाने की योजना के बारे में ऐलान किया गया था। दरअसल, कवच टेक्नोलॉजी पूरी तरह से स्वेदेशी टेक्नोलॉजी है, जिसमें एक ऐसा ऑटोमैटिक ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम है जिसमें दो ट्रेनों की आमने सामने की टक्कर को होने से रोकता है। 'कवच' को 'जीरो एक्सीडेंट' के लक्ष्य को प्राप्त करने के उद्देश्य से लाया गया लेकिन अब ओडिशा में हुए सदी से सबसे बड़े ट्रेन हादसे के बाद कवच स्कीम को विपक्ष सहित कई लोगों ने सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है और रेल मंत्री के इस पुराने वीडियो को शेयर करते हुए लगातार यहीं सवाल खड़े हो रहे है कि आखिर ये इतना भीषण ट्रेन हादसा हुआ कैसे। अब विपक्ष की मांग के बाद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव अपना इस्तीफा देते है या नहीं ये तो वक्त आने पर ही पता चलेगा

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!