क्या साल 2024 माइथोलॉजिकल फिल्मों के साथ धमाल मचाने के लिए तैयार हैं?

Home   >   रंगमंच   >   क्या साल 2024 माइथोलॉजिकल फिल्मों के साथ धमाल मचाने के लिए तैयार हैं?

13
views

सवाल ये है कि क्या कहा जा सकता है कि इस साल फिल्मी दुनिया भक्ति रस में रंगी नजर आने वाली है? इस साल जितनी फिल्मों की जानकारी है, उसके हिसाब से कई फिल्में रिलीज के लिए तैयार है। इसमें बॉलीवुड का बिग बजट प्रोजेक्ट रामायण सबसे ज्यादा सुर्खियों में है।

अक्षय कुमार का सांग शम्भू रिलीज हुआ है, गाना देखने और सुनने के बाद सोशल मीडिया पर लोग गाने को लेकर काफी अच्छा रिस्पॉस दे रहे हैं। शंभू सांग में सुधीर यदुवंशी, विक्रम मॉन्ट्रोस के साथ ही अक्षय कुमार ने भी अपनी आवाज दी है, जिसने गाने में जान फूंक दी है। बीते साल अक्षय कुमार की ओएमजी-2 में भी वो इसी लुक में नजर आए थे, तो शंभू सांग से अक्षय कुमार उसी किरदार को दोबारा दर्शकों के बीच ले आएं हैं। सेंसर बोर्ड ने फिल्म ओएमजी-2 में खूब काट-छाट कर दी थी, लेकिन पब्लिक से फिल्म को काफी प्यार मिला था। वैसे, बीते साल कई फिल्में रिलीज हुईं थीं, जोकि माइथोलॉजिकल थीं। तो इस साल भी इसी तरह की फिल्मों की लंबी लिस्ट तैयार है। वैसे, मौजूदा समय में देखें, तो पता चलता है कि इस साल माइथोलॉजी पर बनी फिल्मों का बोलबाला रहने वाला है। वैसे इसका एक पक्ष ये भी है कि फिल्में समाज का ही आइना होती है और बीते दो-तीन साल से देश में कुछ ऐसा ही माहौल है। 

बहरहाल, इस साल की पहली पहली सुपरहिट फिल्म हनुमान रही। जोकि 12 जनवरी को रिलीज हुई थी, लेकिन अभी भी थियेटर्स में लगी हुई है और काफी पसंद भी की जा रही है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जाने-माने ट्रेड एनालिस्ट रमेश बाला ने फिल्म की कमाई को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा से जोड़ते हुए कहते हैं कि पिछले दिनों ही प्राण प्रतिष्ठा के हफ्ते ही साउथ की फिल्म हनुमान पैन इंडिया के तर्ज पर रिलीज की गई थी। फिल्म का बजट मात्र 30 करोड़ रहा होगा। अभी फिल्म 250 करोड़ का ग्रॉस बिजनेस कर रही है। 

मतलब बिना किसी ग्रैंड प्रमोशन या फिर बड़े स्टार्स के बावजूद फिल्म ने कमाल कर दिया। ये वक्त की ही बात है कि ऐसी माइथोलॉजी फिल्मों की डिमांड बढ़ी है। वैसे, अगर देखा जाए, तो साउथ सिनेमा में हमेशा से ही धार्मिक सब्जेक्ट्स को तवज्जो मिली है, अगर हिस्ट्री देखें, तो साउथ सिनेमा की ज्यादातर फिल्मों में भारतीय संस्कृति की छाप दिख जाती है। वैसे, सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि हाल में विदेशी फिल्म मंकी मैन का ट्रेलर सामने आया। इसमें भी हिंदु माइथोलॉजी का कॉन्सेप्ट देखने को मिला है। और म्यूजिक का भी बेहेतरीन इस्तेमाल नजर आया। विदेशी फिल्मों में अगर देखें, तो अन्य फिल्मों में हिंदु कॉन्सेप्ट का जिक्र होता रहता है। 

सवाल ये है कि क्या कहा जा सकता है कि इस साल फिल्मी दुनिया भक्ति रस में रंगी नजर आने वाली है। इस साल जितनी फिल्मों की जानकारी है, उसके हिसाब से कई फिल्में रिलीज के लिए तैयार है। इसमें बॉलीवुड का बिग बजट प्रोजेक्ट रामायण सबसे ज्यादा सुर्खियों में है। इसी के साथ ही अल्लू अर्जुन की फिल्म पुष्पा-2, कल्कि..जिसे मेकर्स ने प्रोजेक्ट के नाम से इंट्रोड्यूस किया था। इसी के साथ ही Brahmastra पार्ट-2 और मच अवेटेड फिल्म The Immortal Ashwatthama सुर्खियों में हैं। हालांकि इसके अलावा भी कई फिल्में रिलीज होगी। 

लेकिन फिर भी सिर्फ धार्मिकता का नाम लेकर फिल्म बनाना 100 परसेंट हिट की गारंटी नहीं देता है। अक्षय कुमार की रामसेतु और प्रभास स्टारर आदिपुरुष की फजीहत गवाही देती है कि इसमें रिस्क भी है। पहला तो सेंसर बोर्ड और दूसरा जनता को फिल्म न पसंद आने का भी। ये फिल्में कुछ रिस्की हैं, लेकिन इसका इतिहास रोचक रहा है। 

माइथोलॉजी कंटेट को लेकर बॉलीवुड एक्सपेरिमेंटल रहा है। दादा साहेब फाल्के ने पहली फिल्म राजा हरीशचंद्र के जीवन पर बनाकर इसकी नींव डाली। इसके बाद कालिया मर्दन, मोहिनी भस्मासुर, लंका दहन, श्री कृष्ण जन्म, सत्यवान सावित्री, कंस वध, सति पार्वती, राम जन्म ( Alpha) जैसी कई पौराणिक फिल्मों ने दर्शकों को एंटरटेन किया। रामायण पर 1933 से 1960 तक 4 फिल्में बन चुकी थी। रामनवमी, रामधुन, रामलीला के अलावा श्रीकृष्ण, महादेव, मां दुर्गा, भगवान विष्णु, हनुमान जी और गणेश जी  ( Alpha) पर भी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 500 से भी ज्यादा फिल्में अब तक बनाई जा चुकी हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श इसके लेकर मानते हैं कि 'मैं तो कहूंगा कि यही सही समय है। हमारे पास लाखों की संख्या में पौराणिक कहानियां हैं, जिसे हम सिल्वर स्क्रीन पर प्रेजेंट कर सकते हैं। अगर लोग धार्मिक फिल्में बनाना चाहते हैं, तो उसमें हर्ज क्या है। रामायण और महाभारत जैसे टीवी शोज क्लासिक एग्जाम्पल रहे हैं, जिसको लोगों ने बहुत प्यार दिया है। आप अगर सच्ची इमानदारी से बनाएंगे, तो आपकी फिल्म मैजिक करेगी। आपका इंटेंशन क्या है, वो बहुत मायने रखता है। दर्शक ऐसी फिल्में देखना चाहते हैं। हमारे पास कहने को बहुत कहानियां हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!