Anupam Kher : जब 'आई लव यू' की जगह 'आई हेट यू' कहा

Home   >   रंगमंच   >   Anupam Kher : जब 'आई लव यू' की जगह 'आई हेट यू' कहा

153
views

साल 1984 में रिलीज हुई अपनी पहली फिल्म ‘सारांश’ से लोगों के दिलों में छाने वाले अनुपम खेर ने स्ट्रगलिंग डेज में मुंबई के रेलवे स्टेशन पर कई रातें बिताई। आज किस्सा अनुपम खेर का जिन्होंने अपनी बेहतरीन एक्टिंग के दम पर अपनी अलग पहचान बनाई।

07 मार्च 1955 को शिमला में जन्मे अनुपम की डेब्यू फिल्म साल 1984 में आई 'सारांश' मानी जाती है इस फिल्म में 28 साल के अनुपम ने एक मिडिल क्लास रिटायर बूढ़े शख्स का किरदार निभाया। लेकिन इससे पहले भी वे दो फिल्में साल 1971 में रिलीज हुई फिल्म 'टाइगर सिक्सटीन' और साल 1982 की 'आगमन' में काम कर चुके थे।

एक टीवी शो में इंटरव्यू में उन्होंने अपने स्ट्रगल की कहानी सुनाई कि कैसे एक गरीब परिवार में पैदा होने के बाद वे हॉलीवुड तक पहुंचे। अनुपम खेर ने बताया कि वे मंदिर से सौ रुपये चुरा कर एक्टिंग क्लास में एडमिशन लेने पंजाब गए थे। जब वे मुंबई गए तो काफी संघर्ष करना पड़ा। एक धोबन का कमरा किराए पर लिया। एक छोटे से कमरे में पांच लोग सोते थे।

उन्होंने बताया कि बचपन में वे तुतलाते थे। जिस वजह से उनकी गर्लफ्रेंड छोड़कर चली गई।

अनुपम खेर बताते हैं, ‘बचपन में एक बार चोट लगी थी, जिससे जीभ में जख्म हो गया। इसके बाद '' शब्द नहीं बोल पाता था। इसी दौरान मुझे कविता कपूर नाम की लड़की से प्यार हो गया। उस लड़की ने शर्त रखी कि अगर मैं उनका नाम सही से बोलकर ‘आई लव यू’ कह पाया तो वो मेरा प्रस्‍ताव स्‍वीकार कर लेंगी। लेकिन मैं ‘कविता कपूर आई लव यू’ नहीं बोल पाया। मैंने झुंझला कर कह दिया 'तविता तपूर आई हेट यू।'

मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक, साल 1980 में किरण खेर की पहली शादी बिजनेसमैन गौतम बैरी से हुई थी। साल 1981 में उनके बेटे सिकंदर का जन्म हुआ। फिर उनकी मुलाकात अनुपम खेर से हुई। अनुपम खेर की पहली शादी 1979 में मधुमालती नाम की लड़की से हुई थी। किरण और अनुपम दोनों थियेटर से थे। इसलिए दोनों की मुलाकातें होती थी। इसी एक मुलाकात के बाद अनुपम ने किरण को प्रपोज कर दिया। फिर दोनों अपनी पहली शादी का तलाक ले कर साल 1985 में शादी कर ली। अनुपम ने किरण खेर के बेटे सिकंदर को अपनाकर उसे अपना सरनेम दिया।

अनुपम खेर पहले एक्टर हैं जिनको कॉमेडी के लिए पांच बार फिल्मफेयर मिला और उनको लगातार आठ बार फिल्मफेयर अवार्ड जीते हैं। साल 2004 में पद्मश्री और साल 2006 में पद्मभूषण भी मिल चुका है।

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!