बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी जीतने के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम ने बनाया ‘प्लान’, इंडिया के लिए क्यों अहम है ये सीरीज़?

Home   >   रनबाज़   >   बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी जीतने के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम ने बनाया ‘प्लान’, इंडिया के लिए क्यों अहम है ये सीरीज़?

179
views

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 टेस्ट मैचों की बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी का पहला मैच नागपुर में 9 फरवरी से शुरु हो रहा है। लंबे अरसे से इंडिया में टेस्ट सीरीज न जीत पाए कंगारु इस बार जोरदार तैयारी के साथ आए हैं। इतिहास उठाकर देखें तो बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में वैसे तो भारतीय टीम का दबदबा रहा है। लेकिन इस बार कंगारु टीम इस ट्रॉफी को जीतने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसलिए ऑस्ट्रेलियाई टीम ने सीरीज शुरू होने से कुछ दिन पहले नागपुर न जाकर बेंगलुरू में अपना कैंप लगाया और अपनी खास ट्रेनिंग को पूरा करने के लिए एक स्पेशल स्टेडियम तक बुक कराया है।

क्रिकेट मैदान पर इंडिया और ऑस्ट्रलियाई टीम जब भी एक-दूसरे के आमने-सामने आती हैं, तब फैंस के बीच एक अलग तरह का माहौल देखने को मिलता है। साथ ही दोनों टीमों के खिलाड़ियों में भी अलग ही टशन देखने को मिलता है। साल 2007-08 में एंड्रयू साइमंड्स और हरभजन सिंह के बीच हुए मंकीगेट विवाद से लेकर 2017 में हुए स्टीव स्मिथ के DRS विवाद ने क्रिकेट जगत में खूब सुर्खियां बटौरी थीं।

ऑस्ट्रेलिया वर्ल्ड टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन पर है, तो इंडिया दूसरे पायदान पर। जून में होने वाले वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का मुकाबला खेलने के लिए इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ये सीरीज जीतना होगा। और टेस्ट चैम्पियनशिप तक टेस्ट रैंकिंग में नंबर 1 या 2 की पोजीशन को मेनटेन करना होगा। 

27 सालों से हो रही बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में इंडिया का रिकॉर्ड शानदार है। इंडिया ने अबतक हुई 15 सीरीज़ में 9 बार अपना कब्जा जमाया है, जबकि कंगारू टीम सिर्फ 5 बार खिताब अपने नाम कर पाई है। वहीं एक बार सीरीज़ ड्रॉ रही है।

नागपुर में इंडिया के खिलाफ होने वाले टेस्ट मैच से पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम हर पैंतरा आजमाने में जुटी हुई है। इसके लिए सीरीज से पहले अलग-अलग तरीकों से प्रेक्टिस कर रही है। बेंगलुरु के स्पेशल स्टेडियम में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने एक खास पिच तैयार करवाई, जिसमें जगह-जगह गड्ढे किए। ताकि मैच के तीसरे-चौथे दिन कंगारु बल्लेबाजों को भारतीय  स्पिनर्स के खिलाफ खेलने में मदद मिल सके। क्योंकि इंडिया के पास रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जाडेजा और कुलदीप यादव जैसे टॉप क्लॉस के स्पिनर्स हैं, जो कभी भी अपनी फिरकी से मैच का पासा पलट सकते हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रविचंद्रन अश्विन का रिकॉर्ड शानदार रहा है, इसलिए कंगारू टीम ने अश्विन की काट के लिए उनके डुप्लीकेट महेश पिथिया को नेट बॉलर के तौर पर रखा है। महेश का बॉलिंग एक्शन तक सेम टू सेम अश्विन के जैसा है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!