Atiq Ahmed की विरासत को बेगम Shaista Parveen ने संभाला

Home   >   खबरमंच   >   Atiq Ahmed की विरासत को बेगम Shaista Parveen ने संभाला

0
167
views
UP में क्राइम की दुनिया का बेताज बादशाह अतीक अहमद जिसने अपराध के साएं में करोड़ों की सल्तनत को खड़ा किया.. लेकिन योगी सरकार ने नजर ऐसी गढ़ाई की सब कुछ धीरे-धीरे खत्म होने लगा संपत्तियां कुर्क हुई तो कुछ को जब्त कर लिया... अतीक तो कानून के हत्थे चढ़ गया लेकिन यूपी और प्रयागराज की हर आमओ खास की ज़ुबान पर बस यहीं सवाल दिखा कि अब उनकी सल्तनत का क्या होगा... इस बीच एक नाम सामने आया वो है शाइस्ता परवीन का... जैसे एक वक्त डॉन दाउद की बहन हसीना पारकर ने दाउद की सल्तनत को संभाला...इस बात का दावा फिल्म हसीना पारकर में भी किया गया है... कुछ ऐसा ही अब शाइस्ता परवीन कर रही है.. ये कहना गलत नहीं होगा कि जब-जब माफियाओं पर दिक्कतें आती है तो उनके घर की महिलाएं आगे आकर उनके सारे कामों को संभालती है....अब हाल फिलहाल काफी समय बाद यूपी की क्राइम की दुनिया में एक क्वीन उभरी है.. इससे पहले फूलन देवी, सीमा परिहार का नाम काफी सुर्खियों में आया था... शाइस्ता को योगी सरकार ने उमेश पाल हत्याकांड में आरोपी बनाया है....क्योंकि अतीक के करीबियों के साथ शाइस्ता की तस्वीरें सामने आई है...देखा जाए तो ये कहना गलत नहीं होगा कि अतीक के बेटे असद को गैंग में आगे लाने के लिए शाइस्ता ने ये साजिश रची.. जिसको लेकर प्रशासन ने उन पर 50 हजार का इनाम भी घोषित किया है...इसी मामले पर शाइस्ता ने प्रयागराज की MP/MLA कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दाखिल की थी.. जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है..
 
पति अतीक की विरासत को संभाला 
सियासत के गलियारों में अतीक अहमद की मौजूदगी में नकाब में प्रचार के लिए निकलने वाली शाइस्ता अब उसकी अपराध की विरासत भी संभाल रही है पुलिस की जांच में दावा किया गया है कि अतीक के और अशरफ के जेल में होने के बाद शाइस्ता ने उमेश पाल से जुड़ी साजिश को अंजाम तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई. घटना को जैसे अंजाम दिया गया, उससे पुलिस भी सकते में है.... कहा जा रहा है कि वारदात के बाद शाइस्ता ने खुद अपने हाथों से सभी शूटर्स को 50-50 हजार रुपये देकर रवाना किया.... बेटे असद और बाकी शूटर्स के भागने के बाद वह खुद शहर में मौजूद रही.... जब हत्या कराने के आरोप अतीक पर लगे तो उसने उनका खुलकर विरोध किया....  लेकिन जैसे ही उमेश पाल की पत्नी जया पाल ने उसे एफआईआर में नामजद किया, वो अंडरग्राउंड हो गई....  पुलिस अभी उसे पकड़ नहीं पाई है....अतीक के जेल जाने के बाद उसके खास गुर्गे और शूटर अधिकतर शाइस्ता के आसपास ही मौजूद रहते हैं.... कई वीडियो पुलिस के हाथ लगे हैं जिनमें अतीक के शूटर उसके आस-पास मौजूद नजर आ रहे हैं....  इनमें से ज्यादातर वे शूटर हैं....जो उमेश पाल हत्याकांड में शामिल थे....

एक नजर शाइस्ता के सफर पर
10 वीं पास अतीक की पत्नी शाइस्ता ने ग्रैजुएशन तक पढ़ाई की.
उसकी शुरुआती पढ़ाई प्रयागराज में हिम्मतगंज के किदवई गर्ल्स इंटर कॉलेज से हुई.  
एक जुलाई 1972 को जन्मी शाइस्ता के पिता मोहम्मद हारून यूपी पुलिस में कॉन्सटेबल थे.
जो मूलरूप से प्रयागराज के धूमनगंज दामूपुर के रहने वाले हैं.
हारून लंबे समय तक प्रतापगढ़ में ही तैनात रहे.  हालांकि रिटायर होने के बाद वह खुल्दाबाद के चकिया में घर बनाकर रह रहे हैं.
दो भाइयों और चार बहनों में शाइस्ता सबसे बड़ी थी. जब अतीक अहमद माफिया से माननीय बनकर अपनी दहशत का राज बना रहा था, उसी दौरान साल 1996 में अतीक और शाइस्ता का निकाह हुआ.
अतीक और शाइस्ता के पांच बेटे हैं जिनमें से अली और उमर जेल में हैं. तीसरा बेटा असद आज यूपी के टॉप वॉन्टेड में से एक है और पांच लाख रुपये का इनामी है. दो नाबालिग बेटों को बाल सुधार गृह में रखा गया है.

शाइस्ता का बचपन पुलिसवालों के ही बीच बीता, इसलिए वो पुलिस के पैंतरों से भी काफी हद तक वाकिफ है.... शाइस्ता के करीबी मददगारों में वकील, डॉक्टर, प्रयागराज के बड़े बिल्डर, अपराधी और पुलिसकर्मी शामिल हैं..... इन सभी के खिलाफ पुलिस जांच कर रही है. कुछ को पुलिस ने हिरासत में भी लिया है लेकिन जुर्म की दुनिया की क्वीन बनी शाहिस्ता परवीन फिलहाल पुलिस के शिकंजे से दूर है.
 
दहशत की जमीन पर सजाया राजनीतिक मंच!
पति और देवर के जेल जाने के बाद शाइस्ता उनकी बनाई दहशत की जमीन के सहारे अपना राजनीतिक मंच तैयार करने में जुटी थी. इस दौरान उसने पति के संपर्कों के जरिए पहले समाजवादी पार्टी और फिर ओवैसी की पार्टी AIMIM से जुड़ने का प्रयास किया. लेकिन बात नहीं बनी.  हालांकि निकाय चुनावों की घोषणा के पहले शाइस्ता ने 5 जनवरी को प्रयागराज में मायावती की बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ले ली.  उसे मेयर के टिकट का वादा किया गया, इसलिए वो चुनावी तैयारी में भी जुट गई. इस बीच उमेश पाल की हत्या हो गई और मायावती ने भी अपने विचारों को बदल लिया उन्हें बड़ा झटका देते हुए टिकट की दावेदारी से दूर कर दिया.


पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक अतीक और अशरफ के जेल जाने के बाद शाइस्ता ने उनके जमीन से जुड़े धंधे की बागडोर भी अपने हाथ में ले ली... कहां किसे कितना समझाना है, किसे रास्ते से हटाना है, यह उसे अच्छी तरह मालूम था.... जमीनों से जुड़ी हत्याओं में भी पुलिस शाइस्ता की भूमिका की जांच कर रही है. ....शाइस्ता को पकड़ने में पुलिस को इसलिए भी मुश्किलें आ रही हैं क्योंकि उसकी ज्यादातर फोटो नकाब में हैं..... घर के लोगों और बहुत कम करीबियों ने ही उसके चेहरे को देखा है.... पुलिस के पास उसके खुले चेहरे की जो एकाध फोटो हैं, वे ज्यादा साफ नहीं हैं.... अतीक से जुड़े ज्यादातर लोग या तो जेल में हैं या फरार हैं, इसलिए उसकी पहचान के लिए पुलिस तेलियरगंज की एक महिला डॉक्टर के संपर्क में है....  शाइस्ता को पुलिस कौशाम्बी, ग्रेटर नोएडा, मेरठ, दिल्ली, ओखला, मुम्बई और पश्चिम बंगाल में खास तौर पर तलाश रही है.. इन जगहों पर उसके छिपे होने की आशंका जताई जा रही है....लेकिन अभी तक पुलिस के हाथ खाली है.. अब कब तक शाइस्ता गिरफ्तार होती है ये देखने वाली बात होगी. डेस्क रिपोर्ट मंच 
 
कानपुर का हूं, 8 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं, पॉलिटिक्स एनालिसिस पर ज्यादा फोकस करता हूं, बेहतर कल की उम्मीद में खुद की तलाश करता हूं.

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!