डेटिंग एप के ज्यादा इस्तेमाल से मेंटल हेल्थ पर पड़ता है असर।

Home   >   खबरमंच   >   डेटिंग एप के ज्यादा इस्तेमाल से मेंटल हेल्थ पर पड़ता है असर।

114
views

डेटिंग एप का इस्तेमाल दोस्त या पार्टनर की खोज में करते हैं। जाहिर है अकेलेपन को दूर करने के लिए, लेकिन एक रिसर्च की माने तो करीब 70% लोग डेटिंग एप के इस्तेमाल के बाद डिप्रेशन और एंग्जायटी की प्रॉब्लम से पड़ जाते हैं। ये रिसर्च डेटिंग एप के फायदे और नुकसान के साथ घंटों तक इसके इस्तेमाल से लत के बारे में भी बात करती है।

डेटिंग एप्स अब आपको ज्यादातर लोगों के फोन में आसानी से इंटॉल मिलेंगे। लेकिन पार्टनर को तलाशने के लिए यूज किए जा रहे इन ऐप्स से लोग मेंटल हेल्थ की प्रॉब्लम का शिकार हो रहे हैं।

डेटिंग एप को लेकर करीब 1000 लोगों पर रिसर्च की गई, तो सामने आया कि 44%यूजर्स ऐसे थे, जो फिजिकल रिलेशन की चाहत से ऐप्स का इस्तेमाल कर रहे थे। साथ ही 27% फीमेल्स अपने ईगो बूस्ट के लिए डेटिंग ऐप का यूज करती हैं। डेटिंग एप की इस रिसर्च में सामने आया कि यूजर एक ही टाइम पर 6 लोगों से बात करता है।

ब्रिटेन की साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी से ताल्लुख रखने वाले डॉ. मर्टिन ग्राफ की मानें, तो पता चलता है कि रिसर्च में शामिल 44% यूजर्स ऐसे थे, जो मैच मिलने के बाद पार्टनर की पर्सनैलिटी से नाखुश थे। डेटिंग एप के इस्तेमाल का इम्पेक्ट हर पर्सन के लिए अलग है, लेकिन इसको यूज करने के फायदे कम और नुकसान ज्यादा हैं। आप किस टाइम पर एप का यूज करते हैं, इससे भी फर्क करता है।

जैसे कि रिसर्च में निकलकर सामने आया कि डेटिंग एप का इस्तेमाल करने वाले 70% लोग एप के इस्तेमाल के बाद डिप्रेशन और एंग्जायटी जैसी मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम का शिकार हो जाते हैं। जिसमें से 39% लोग सुबह उठते ही और 48 परसेंट लोग सोने से पहले तक ऐप्स पर टाइम बीतातें हैं।

इससे ये भी पता चलता है कि डेटिंग ऐप्स की न्यू टैकनीक लोगों पर हावी होती जा रही है। जिसकी लत भी लोगों को लग चुकी है, जिसपर लोग घंटों बर्बाद भी कर रहे हैं। जो मेंटल हेल्थ पर बुरा प्रभाव छोड़ रहा है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!