अशरफ को पहले से ही सता रहा था मौत का डर, अब चिट्ठी से होगा हत्याकांड का खुलासा!

Home   >   खबरमंच   >   अशरफ को पहले से ही सता रहा था मौत का डर, अब चिट्ठी से होगा हत्याकांड का खुलासा!

111
views

इसे इत्तेफाक कहें या कुछ और अशरफ अहमद ने करीब 17 दिन पहले मीडिया से बातचीत में जो कुछ कहा वो सच साबित हो गया। अतीक अहमद के भाई अशरफ ने अपनी जान का खतरा बताया था। आशंका जताई थी कि उसे 2 हफ्ते में निपटा देने की धमकी एक बड़े अफसर ने दी है। वहीं अब गैंगस्टर अशरफ के वकील विजय मिश्रा ने दावा किया कि यूपी सीएम के पास जल्द एक सीलबंद चिट्ठी पहुंचेगी। इस बंद लिफाफे में माफिया अतीक और अशरफ को मरवाने वाले का नाम लिखा है।

28 मार्च को प्रयागराज कोर्ट में पेशी के बाद माफिया अशरफ को बरेली जेल ले जाया गया था। जेल में बंद होते हुए भी अशरफ खुश था। वजह थी उमेश पाल किडनैपिंग मामले में उसका बरी होना। लेकिन निर्दाेष साबित होते हुए भी अशरफ को खुद की हत्या का डर सता रहा था। तभी बरेली में मीडिया के सामने माफिया ने सनसनीखेज बयान दिया। अशरफ ने कहा था मुझे एक अधिकारी ने धमकी दी है। उसने कहा है कि मुझे 2 हफ्ते के बाद किसी बहाने से निकाला जाएगा और निपटा दिया जाएगा। मुझ पर लगे आरोप फर्जी हैं। ये मुझे, मेरे परिवार को और यूपी सरकार को बदनाम करने की साजिश है। अगर मेरी हत्या होती है तो सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस, इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मेरा सील बंद लिफाफा मिलेगा। उसमें उस अधिकारी का नाम होगा, जिसने मेरी हत्या की धमकी दी है, लेकिन उसने नाम बताने से इनकार कर दिया था। अशरफ ने जो बात कही थी, उसके इस बयान के ठीक 17वें दिन पुलिस की मौजूदगी में 15 अप्रैल की रात हू-ब-हू वो सच साबित हुआ। 

अब सबसे बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि अखिरकार अशरफ को ये धमकी किसने दी और कौन अफसर है जो अशरफ को मारना चाहता था। क्या उसी अफसर ने अशरफ को मरवा दिया, तो क्या अब चिट्ठी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास पहुंचेगी । 

पिछले 10 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं। वैश्विक और राजनीतिक के साथ-साथ ऐसी खबरें लिखने का शौक है जो व्यक्ति के जीवन पर सीधा असर डाल सकती हैं। वहीं लोगों को ‘ज्ञान’ देने से बचता हूं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!