Film Director Chetan Anand और Priya Rajvansh की Love Story

Home   >   रंगमंच   >   Film Director Chetan Anand और Priya Rajvansh की Love Story

221
views

27 मार्च साल 2000 मुंबई के पॉश इलाके में 60 और 70 के दशक की मशहूर हीरोइन प्रिया राजवंश की डेड बॉडी उनके बंगले से मिलती है। इस घटना से पूरी फिल्म इंडस्ट्री हिल जाती है। उनकी हत्या की गई थी और हत्या का आरोप एक्टर देवानंद के भाई फिल्म डायरेक्टर चेतन आनंद के दोनों बेटों पर लगता है। आज किस्सा चेतन आनंद का।

आज की तारीख में बॉलीवुड इस स्तर तक पहुंचाने का क्रेडिट चेतन आनंद को जाता है। चेतन आनंद एक्टर देव आनंद के बड़े भाई थे। कहा जाता है कि चेतन आनंद की बदौलत ही देव आनंद फिल्मों में आ सके। चेतन आनंद ने 1940 में करियर की शुरुआत की। उन्होंने पहली स्क्रिप्ट अशोका की लिखी थी, जिसे वे मुंबई में डायरेक्टर फानी मजूमदार को दिखाने गए। तब डायरेक्टर फानी मजूमदार ने उन्हें अपनी फिल्म राजकुमार के लिए लीड रोल में कास्ट कर लिया। ये फिल्म 1944 में रिलीज हुई। इसके बाद उन्होंने सोच लिया कि वे फिल्मों में डायरेक्शन करेंगे। फिर उन्होंने फिल्म नीचा नगर डायरेक्टर की। ये फिल्म हिट हुई और 1946 में इस फिल्म ने कान फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट फिल्म का एवार्ड जीता। इसके बाद 1949 में चेतन ने अपने भाई देव आनंद के साथ मिलकर 1949 में 'नवकेतन फिल्म्स एंड प्रोडक्शन' की नींव रखी। 'नवकेतन फिल्म्स' के बैनर तले उन्होंने 'टैक्सी ड्राइवर', 'हकीकत', 'हीर रांझा', 'कुदरत', 'आखिरी खत', 'हिंदुस्तान की कसम', 'आंधियां', 'अफसर', 'हाथों की लकीरें', 'काला बाजार', 'अमन', 'अर्पणजैसी शानदार फिल्में दी। चेतन आनंद की ज्यादातर फिल्मों में हीरोइन प्रिया राजवंश का खास रोल होता था। प्रिया ने अपने करियर में ज्यादातर फिल्में चेतन के साथ कीं। इस दौरान चेतन और प्रिया एक-दूसरे के काफी नजदीक आए। प्रिया और चेतन एक दूसरे से प्यार करते थे। दोनों जिंदगी भर साथ रहे, लेकिन कभी शादी नहीं की। चेतन आनंद पहले से शादीशुदा थे और उनके दो बेटे भी थे। लेकिन चेतन आनंद अपनी पत्नी उमा को छोड़ कर प्रिया राजवंश के साथ रहने लगे। फिर 82 साल की उम्र में चेतन आनंद ने साल 1997 में दुनिया से अलविदा कह दिया। चेतन आनंद के निधन के बाद 64 साल की उम्र में प्रिया राजवंश अकेली पड़ गईं। मुंबई में अकेले रहा करती थी। प्रिया राजवंश का अंत बेहद दुखद था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 27 मार्च साल 2000 को चेतन आनंद ने बेटे केतन और विवेक आनंद ने नौकरों के साथ मिलकर प्रिया की हत्या कर दी। हत्या के जुर्म में उन दोनों को उम्रकैद की सजा भी हुई। तब खबरें सामने आईं थी चेतन आनंद ने अपनी सारी प्रॉपर्टी प्रिया राजवंश के नाम कर दी थी। इस बात से चेतन आनंद के बेटे खफा थे। हालांकि मौत की असल वजह सामने नहीं आ पाई

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!