ललित मोदी ने कैसे शुरू किया IPL? जिससे BCCI हर साल कमाता अरबों रुपए

Home   >   रनबाज़   >   ललित मोदी ने कैसे शुरू किया IPL? जिससे BCCI हर साल कमाता अरबों रुपए

111
views

मौजूदा समय में वर्ल्ड क्रिकेट में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी BCCI का दबदबा है, ये बात हम सभी जानते हैं। लेकिन शायद ये नहीं जानते होंगे कि ये हुआ कैसे? क्योंकि एक समय वर्ल्ड क्रिकेट में एशियन क्रिकेट काउंसिल यानी ICC की तूती बोलती थी। साफ शब्दों में कहें तो वर्ल्ड क्रिकेट में BCCI को ऊंचाइयों पर ले जाने का कुछ हद तक श्रेय BCCI के उपाध्यक्ष और IPL के फाउंडर रहे ललित मोदी को जाता है। मौजूदा दौर में क्रिकेट की दुनिया में IPL को सबसे अमीर और फेमस क्रिकेट लीग में से एक माना जाता है। 31 मार्च से शुरू हो रहे इसके 16वें सीज़न पर क्रिकेट जगत की नजरें टिकी हुई हैं। पर क्या आपको पता है इसकी शुरुआत कैसे हुई थी? अगर नहीं तो जानिए दिलचस्प स्टोरी...

जैसा की हम सभी को मालूम है, IPL का पहला सीज़न 2008 में खेला गया था। लेकिन असल में इसकी स्क्रिप्ट साल 1996 में लिखी गई थी। उस समय ललित मोदी की कंपनी मोदी इंटरटेनमेंट नेटवर्कऔर ESPN एकसाथ मिलकर काम कर रही थी। उस दौर में टीवी पर मैच दिखाने के सारे अधिकार ESPN के पास थे। तभी ललित मोदी के दिमाग में इस लीग को शुरू करके अपने सपने को पूरा करने का आइडिया आया। लेकिन उस वक्त के BCCI प्रेसिडेंट रहे जगमोहन डालमिया ने इसपर रोक लगा दिया था।

जगमोहन डालमिया के रोक लगाने पर ललित मोदी के दिमाग में एक च़ीज समझ आ गई थी कि उन्हें खुद BCCI में जाना पड़ेगा। और यहीं से शुरू हुआ उनका BCCI तक पहुंचने का सफर। 1999 में हिमाचल क्रिकेट बोर्ड में चुने जाने के बाद 2004 तक ललित पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन का उपाध्यक्ष बन गए थे। फिर ठीक अगले साल, 2005 में मात्र एक वोट से जीतने पर उन्हें राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन का प्रेसिडेंट चुना गया था। ऐसा कहा जाता है कि NCP लीडर शरद पवार के साथ मिलकर उन्होंने जगमोहन डालमिया का तख़्तापलट कर दिया था। जिसके बाद शरद पवार BCCI के नया अध्यक्ष और ललित मोदी को उपाध्यक्ष बनाया गया था।

साल 2007 आते-आते क्रिकेट काफी बदल चुका था। महेंद्र सिंह धोनी की कैप्टेंसी में टीम इंडिया ने टी20 वर्ल्ड कप का पहला सीज़न जीता था। उस दौर में टी20 क्रिकेट की पॉपुलैरिटी चरम पर थी। तभी इसी का फायदा उठाते हुए ललित मोदी ने दोबारा अपने सपने को पूरा करने का सोचा।

ललित मोदी ने किया लॉन्च

BCCI चेयरमैन शरद पवार से मंजूरी मिलने के बाद ललित मोदी ने 2008 में 8 टीमों के साथ IPL को लॉन्च किया और इसके पहले चेयरमैन भी बने। फोर्ब्स की रिपोर्ट के मुताबिक, 2008 में IPL की नेट वर्थ 513 करोड़ रुपए थी, जो 2022 में 7,973 करोड़ रुपए तक पहुंच गई है।

जब ललित पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा

ललित की अगुवाई में 2008 और 2009 का IPL सुपरहिट साबित हुआ और BCCI ने इस लीग खूब पैसे कमाए। ऐसा कहा जाता है जब ललित BCCI से जुड़े थे, उस समय बोर्ड के खाते में सिर्फ 40 करोड़ रुपए थे और जब साल 2010 में भ्रष्टाचार के कारण उनपर बैन लगा उस समय बोर्ड के खाते में हजारों करोड़ रुपए थे। ललित मोदी भी अपने एक बयान में इस बात का दावा कर चुके हैं। लेकिन 2010 में दो नई टीम कोच्चि और पुणे की एंट्री पर बवाल हुआ और ललित पर टेंडर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा। जिसके बाद BCCI ने ललित मोदी को पहले सस्पेंड फिर बाद में बैन लगा दिया। केस से बचने के लिए ललित भारत छोड़कर लंदन चले गए और वहीं जाकर बस गए। हालांकि अब तक IPL के 15 सीज़न बीत चुके हैं और बीते इन सालों में इस लीग की पॉपुलैरिटी और कमाई साल दर साल बढ़ती जा रही है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!