IMD ने जारी किया हीट वेव अलर्ट, इन राज्यों में लू का होगा डबल अटैक

Home   >   खबरमंच   >   IMD ने जारी किया हीट वेव अलर्ट, इन राज्यों में लू का होगा डबल अटैक

24
views

यूं तो इंडिया में गर्मियों के सीजन की शुरुआत अप्रैल से हो जाती है, और इसे महसूस कराते हैं टीवी पर आने वाले वो ऐड्स जो गर्मी से राहत देने वाले प्रोडक्ट का प्रचार करना शुरु कर देते हैं। लेकिन अभी तो टीवी पर बढ़ती गर्मी वाले ऐड्स आना स्टार्ट भी नहीं हुए हैं और भारतीय मौसम विभाग ने अप्रैल-जून, 2024 की तिमाही के लिए सीजनल आउटलुक जारी किया है, जो चौंकाने वाला है। इस पूर्वानुमान में उन्होंने बताया है कि इस बार भयंकर गर्मी पड़ने के आसार हैं। साथ ही IMD ने बताया कि अप्रैल-जून के बीच अल नीनो के प्रभाव के न्यूट्रल होने की संभावना है, लेकिन इस दौरान उत्तर, दक्षिण के कुछ हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ेगी।
अप्रैल महीने के लिए जारी किए गए पूर्वानुमान के मुताबिक, भारत के ज्यादातर हिस्सों में नॉर्मल से ऊपर मैक्सिमम टम्प्रेचर हो सकता है। वहीं पूर्व, उत्तर-पूर्व और उत्तर-पश्चिम भारत में एक या दो हिस्सों को छोड़कर मिनिमम टम्प्रेचर नॉर्मल से नीचे रहने की संभावना है। मिनिमम टम्प्रेचर के लिए भी यही पैटर्न एक्सपेक्टेड है। उत्तर-पश्चिम और उत्तर-पूर्व भारत के कुछ हिस्सों को छोड़कर पूरे देश में टम्प्रेचर नॉर्मल से ज्यादा रहने की पॉसिबिलिटी है।
चिलचिलाती गर्मी की वजह से देश भर में हीटवेव में भी बढ़ोत्तरी हो सकती है। संयोग से इसी दौरान आम चुनाव भी हैं, जिसमें लगभग एक अरब लोगों के मतदान करने की उम्मीद है। रायलसीमा, कर्नाटक , महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और गंगीय पश्चिम बंगाल में अधिकतम तापमान 41-42 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया जा रहा है।
यहां पर पड़ रही है भीषण गर्मी
कुरनूल में बीते दिन अधिकतम तापमान 42.2 डिग्री तो गुलबर्गा में 41.6  डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि महाराष्ट्र में मालेगांव, सोलापुर में 41-42 डिग्री के आसपास तापमान दर्ज किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में 41.5 डिग्री तो पश्चिम बंगाल के आसनसोल में 41.7 डिग्री अधिकतम तापमान दर्ज किया गया।
मौसम विभाग ने देश की राजधानी दिल्ली में आने वाले एक दो दिन आंशिक रूप से बादल छाए रहने और 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना जताई है। वहीं, अधिकतम तापमान 33 और न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस रहने का पूर्वानुमान है। अगले सात दिनों तक तापमान 33 से 37 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावनाएं हैं। इस दौरान लू चलने का कोई पूर्वानुमान नहीं है। आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, दिल्ली में अगले चार दिनों के दौरान आमतौर पर आसमान में बादल छाए रहेंगे और तेज हवाएं चलेंगी।
यूपी में बढ़ने वाली है गर्मी
उत्तर प्रदेश में भी अगले कुछ दिनों में तेज गर्मी पड़ने वाली है। लखनऊ मौसम विभाग के अनुसार, इस साल प्रदेश में तेज धूप के साथ लू भी चलेगी। जून-जुलाई में भीषण गर्मी का असर देखने को मिलेगा। प्रदेश के कई जिलों में अगले 24 घंटे के दौरान अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। लखनऊ समेत कई जिलों में पिछले 24 घंटे के दौरान अधिकतम तापमान 36 डिग्री दर्ज किया गया।
मौसम विभाग का कहना है कि दक्षिण प्रायद्वीप के अधिकांश हिस्सों, मध्य भारत और उत्तर-पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में सामान्य से अधिक हीटवेव वाले दिन होने की संभावना है। वहीं, अप्रैल में ज्यादा गर्मी पड़ने की आशंका भी जताई गई है। खास तौर से दक्षिण प्रायद्वीप के कई हिस्सों, पड़ोसी उत्तर पश्चिम मध्य भारत और पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों और उत्तर पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में काफी गर्मी पड़ सकती है।
IMD ने बताया है कि दक्षिण के ज्यादातर हिस्सों, पूर्वी भारत, मध्य भारत और उत्तर पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में लू का कहर सबसे ज्यादा देखने को मिलेगा। उत्तरी ओडिशा, पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में अधिकतम तापमान के सामान्य या उससे नीचे रहने की उम्मीद है। मौसम विभाग ने देश के कई हिस्सों में 10 से 20 दिनों तक लू चलने का अनुमान जताया है। झारखंड के कुछ हिस्सों में 4 अप्रैल से गर्मी की पहली लू चलने की चेतावनी जारी की गई है, तो वहीं कुछ जिलों में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा भी जा सकता है। मध्य प्रदेश में इस समय तापमान 37-40 डिग्री सेल्सियस चल रहा है, जो अगले हफ्ते 42 डिग्री तक पहुंच सकता है।
गर्मी के साथ ही IMD ने बारिश को लेकर भी अनुमान जताया है। मौसम विभाग ने पूर्वोत्तर के कई राज्यों के लिए भारी बारिश का ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया है। असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश तेज बारिश हो सकती है। इन राज्यों में बिजली गरजने, भारी बारिश होने और 30-40 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं बहने का अनुमान है।
अप्रैल में बारिश का अनुमान एलपीए का 88-112% होने की संभावना है। उत्तर पश्चिम भारत के ज्यादातर हिस्सों और मध्य भारत के कई हिस्सों, उत्तरी प्रायद्वीपीय भारत, पूर्व और उत्तर पूर्व भारत के कुछ हिस्सों में नॉर्मल या उससे ज्यादा बारिश होने की संभावना है। वहीं पूर्वी और पश्चिमी तटों, पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों और पश्चिम मध्य भारत में नॉर्मल से कम बारिश हो सकती है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!