Israel-Hamas War। Middle East में सबसे ताकतवर Country कैसे बना Israel, कितना खर्च करता है Army पर ?

Home   >   खबरमंच   >   Israel-Hamas War। Middle East में सबसे ताकतवर Country कैसे बना Israel, कितना खर्च करता है Army पर ?

51
views

साल 1948 में बना और अब 75 साल का हो चुका इजरायल जियोग्राफिकल एरिया के एंगल से मणिपुर से भी छोटा है। 93.6 लाख लोगों की आबादी वाले इस देश ने पूरी दुनिया में अपना लोहा कई बार मनवाया है, तीन तरफ से दुश्मनों से घिरा हुआ  इजरायल आजतक कोई भी जंग नहीं हारा। और इंटरनेशनल रिलेशन्स के एक्सपर्ट्स इजराइल को अमेरिका का बिगड़ा बेटा पुकारते हैं। जिसकी वजह है अमेरिका का इजरायल के सैन्य बजट में बड़ा समर्थन... आखिर दुश्मनों से घिरे एक बेहद छोटे से देश को कहाँ से मिलती है इतनी ताकत? और क्या है इजराइल की आर्म फोर्सेस की ताकत...?

20,770 वर्ग किलोमीटर वाले इस देश की 273 किलोमीटर लंबी तटीय सीमा भूमध्य सागर से लगी हुई है। इजरायल लगभग 1068 किलोमीटर के बार्डर्स मिस्र, जॉर्डन, सीरिया, लेबनान और फिलिस्तीन से शेयर करता है। इजरायल की पावरफुल आर्म फोर्सेस और इंटेलिजेंस के चलते उसे मिडिल ईस्ट में सबसे ताकतवर एक अकेला यहूदी देश माना जाता है। शिन बेट, इजरायली घरेलू खुफिया सर्विस, मोसाद और इजरायली सेना के रहते ये आश्चर्यजनक माना जा रहा है कि कैसे हमास ने बार्डर तोड़कर हमला कर दिया। क्योंकि इजरायल के पास यकीनन मिडिल ईस्ट में सबसे व्यापक और ताकतवर इंटेलिजेंस एजेंसियां हैं। इन एजेंसियों के फिलिस्तीनी आतंकवादी समूहों के साथ-साथ लेबनान, सीरिया और अन्य जगहों पर भी मुखबिर और एजेंट हैं। इजरायली खुफिया एजेंसियों ने पहले भी आतंकवादी संगठनों की सभी गतिविधियों की जानकारी रखते हुए उनके नेताओं की सटीक समय पर हत्याएं की हैं।

अगर बात की जाए इजरायल की आर्मी की तो, इजरायल के पास कुल मिलिट्री पर्सनल 6.46 लाख से ज्यादा हैं। 1.73 लाख सैनिक किसी भी समय जंग के लिए तैयार रहते हैं। इसके अलावा 4.65 लाख सैनिक रिजर्व में हैं। 8000 से ज्यादा सैनिकों वाली पैरामिलिट्री फोर्स है। इजरायल के पास 89 हजार वायुसैनिक, 2 लाख थल सैनिक और 20 हजार नौसैनिक हैं। इनमें लगभग 33% महिलाएं हैं, जो ऑफिसर्स रैंक पर भी तैनात हैं।

अगर इजरायली एयर फोर्स की बात करें तो इजरायल के पास कुल 601 एयरक्राफ्ट्स हैं। जिनमें F-16, F-15 ईगल F-4 फैंटम जैसे एयरक्राफ्ट शामिल हैं, इसके अलावा अमेरिका से Fifth Generation F-35 स्टील्थ फाइटर जेट भी खरीद रहा है। इजरायल के पास कुल 126 हेलिकॉप्टर हैं। जिनमें से 38 उड़ान के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। जिसमें बड़ी संख्या में अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर भी शामिल हैं। 2200 से ज्यादा एडवांस्ड हाईटेक टैंक्स हैं। जिसमें दुनिया के सबसे एडवांस्ड टैंक में सुमार मर्कावा एम के 4 बड़ी संख्या में शामिल हैं। इसके अलावा 155mm Heavy artliry Gun system के अलावा बेहद ताकतवर आर्टिलरी इसके पास हैं, जिसमें 650 सेल्फ प्रोपेल्ड आर्टिलरी है, इनमें से 520 सीमाओं पर तैनात रहती है। टोड आर्टिलरी यानी खींचकर ले जाने वाले तोप 300 हैं, 240 तोप हमेशा तैयार रहते हैं। MLRS यानी मल्टीपल लॉन्चर रॉकेट ऑर्टिलरी 300 है। जिनमें 240 से इस दौरान गाजा पर हमला किया जा रहा है। इसके साथ  ही इजराइल के पास कुल मिलाकर 56,290 बख्तरबंद गाड़ियां हैं, जिनमें से 45 हजार से ज्यादा हर समय इस्तेमाल होती रहती हैं।  इसके अलावा इनका एंटी एयर डिफेंस सिस्टम आयरन डोम सबसे माना जाता है। इजराइल एक परमाणु शक्ति संपन्न देश है ऐसा माना जाता है कि उसके पास 80 से 90 के करीब न्यूक्लियर वार हेड्स हैं जिन्हें लॉन्ग रेंज की बेलेस्टिक मिसाइलों और फाइटर जेट्स से गिराया जा सकता है। ये बात तो रही ताकत की, अब ये भी जान लीजिए कि इस ताकत को बनाए रखने के लिए इजराइल का डिफेंस बजट कितना है। तो इसका जवाब है कि इजराइल का 2023 का डिफेंस बजट 18 बिलियन डॉलर है। इसके अलावा रक्षा क्षेत्र में अमेरिका में पूरी तरह से मदद करता है। इजराइल का डिफेंस बजट उसकी कुल GDP का 5 से 6 % रहता है। इजराइल एक बड़ा डिफेंस एक्सपोर्टर भी है। दुनिया में टॉप 10 डिफेंस एक्सपोर्टिंग कंट्रीज़ में इजराइल भी शामिल है। अगर बात करें आंकड़ों की तो, दुनिया में टोटल आर्म एक्सपोर्ट में इजराइल की कुल हिस्सेदारी 2.3% है। भारत भी काफी हथियार इजराइल से खरीदता है। इसके साथ ही इजराइल अपनी सुरक्षा को लेकर बेहद अक्रामक रहा है। 

अब बारी आती है इजरायली नेवी की... तो इजरायली नेवी के पास 67 जहाज हैं। एयरक्राफ्ट कैरियर एक भी नहीं है। क्योंकि उनकी एयरक्राफ्ट कैरियर की कमी अमेरिका पूरी कर देता है। जो कि अमेरिका इस दौरान भी भेज दिया है। शायद एक वजह ये भी हो सकती है इजरायल को अमेरिका का बिगड़ा बेटा कहे जाने की। इजरायल की नेवी के पास 7 कॉर्वेट, 5 पनडुब्बी और 45 पेट्रोल वेसल हैं। सबसे खास बात ये कि इजरायल की जो आबादी है। उसमें से 31.11 लाख लोग ऐसे हैं, जिन्हें किसी भी समय मिलिट्री सर्विस में शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा 1.24 लाख से ज्यादा लोग मिलिट्री में शामिल होने वाली उम्र में पहुंच गए हैं।

चल रही जंग की बात करें तो इजराइल ने हमास को खत्म करने की कसम खाई है और बीते 5 दिनों में करीब 2000 टन से ज्यादा बारूद गाजा पट्टी समेत अपने दुश्मनों पर गिरा चुका है। इजराइल और हमास के बीच होने वाली लड़ाईयों में गाजा की खास सीक्रेट सुरंगे भी हर बार चर्चा में आती है। किसी और मकसद से बनाई गई इन सुरंगों का इस्तेमाल हमास के आतंकी खुद को छिपाने और आतंकी गतिविधियों में करते हैं। हमास के आतंकी इन्हीं सुरंगों से अपना आतंक का कारोबार चलाते हैं. इन्हीं में वो अपना कमांड सेंटर चलाते हैं। यही वजह है कि इस बार इजरायल इन सुरंगों के पीछे पड़ गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इजरायल इस बार सुरंग उड़ाने वाले हथियारों का इस्तेमाल कर रहा है, ताकि इनमें छिपे आतंकियों को बाहर निकाला जा सके। और उन्हें पूरी तरह से नेस्तनाबूद किया जा सके। 

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!