'जिंदगी एक नशा है, कविता भी एक नशा है'

Home   >   रंगमंच   >   'जिंदगी एक नशा है, कविता भी एक नशा है'

178
views

साल 1907 को प्रतापगढ़ जिले के एक छोटे से गांव 'बाबू पट्टी' में पैदा हुई हरिवंश राय को घर में प्यार से 'बच्चन' पुकारा जाता था, बाद में दुनिया में इसी नाम से जाने गए।

हिन्दी साहित्य के प्रमुख लेखक और कवि डॉ धर्मवीर भारती भी कहते थे कि हरिवंश राय बच्चन हिन्दी के सैकड़ों सालों के इतिहास में पहले ऐसे कवि और साहित्यकार हैं, जो अपने बारे में सब कुछ इतनी बेबाकी, साहस और सद्भावना से बयां कर देते हों।

आज कहानी हरिवंश राय बच्चन की जिन्होंने शराब को कभी हाथ नहीं लगाया पर मधुशाला काव्य लिखकर सभी को झूमाया। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हरिवंश राय बच्चन ने ‘मधुशाला’ को लिखा क्यों था?

साल 1933 जब हरिवंश राय बच्चन ने 'मधुशाला' को लिखा। जो आज तक पसंद की जाती है। बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन भी कई मौकों पर अपने पिता हरिवंश राय बच्चन को याद कर उनकी लिखी 'मधुशाला' को गाते हैं। एक बार ऐसे ही कार्यक्रम में उन्होंने अपने पिता को याद करते हुए 'मधुशाला' से जुड़ा एक किस्सा बताया।

एक न्यूज पेपर में छपी खबर के मुताबिक अमिताभ बच्चन ने बताया कि

‘बाबूजी शराब नहीं पीते थे, बहुत से लोगों को आश्चर्य होता था पीते नहीं हैं तो शराब पर लिखते कैसे हैं? लोगों को लगता था ये कवि दिन-रात शराब के नशे में चूर रहता है।’

इसके आगे अमिताभ बच्चन बताते हैं कि

‘एक बार बाबूजी ने कहा था कि नशे से इंकार नहीं करूंगा। जिंदगी ही एक नशा है। कविता भी एक नशा है और भी बहुत से नशे हैं।’

हालांकि हरिवंश राय बच्चन से इसके बाद भी लोग उनसे पूछ ही लेते थे कि जब पीते नहीं हैं तो प्रेरणा कैसे मिलती है?

तब वे कहते थे कि

'एक बार मेरे मन में ख्याल आया कि मेरा जन्म कायस्थों के कुल में हुआ है, जो फेमस ही पीने के लिए है, तो ये सब मेरे अंदर तो जन्म से होगा।'

अमिताभ बच्चन समय-समय पर भी ट्विटर पर ‘धमुशाला’ की पंक्तियां लिख पिता को याद करते हैं। एक उन्होंने अपनी तस्वीर शेयर की थी और इस कविता की चंद लाइनों को लिखा था।

अपने युग में सबको अनुपम ज्ञात हुई अपनी हाला

अपने युग में सबको अदभुत ज्ञात हुआ अपना प्याला।

फिर भी वृद्धों से जब पूछों, एक यही उत्तर पाया

अब न रहे वो पीने वाले, अब न रही वो मधुशाला।।

 

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!