Lok Sabha की Security ब्रेक करने वाले Sagar Sharma की मां ने राज बता डाले, Facebook से हुआ ये बड़ा खुलासा

Home   >   खबरमंच   >   Lok Sabha की Security ब्रेक करने वाले Sagar Sharma की मां ने राज बता डाले, Facebook से हुआ ये बड़ा खुलासा

47
views

ये भारत कई वीरों के बलिदानों का कर्ज़दार है
इसे धर्म-जात के रंगों में मत बांटो
सागर


ये लाइनें लखनऊ के सागर शर्मा ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट फेसबुक में लिखी है. ये वही सागर है जिसने संसद की सुरक्षा को भेदकर पूरे देश को हैरान कर दिया, सागर की फेसबुक पोस्ट से पता चलता है कि उसके मन में कुछ बड़ा करने की चाह थी. सागर के साथ-साथ सभी आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है. 
रिपोर्ट्स की मानें तो संसद सिक्योरिटी ब्रेक के किरदार सागर शर्मा, डी-मनोरंजन, अमोल, नीलम, विक्की, ललित झा ये सभी 6 लोग देश के अलग-अलग शहरों से हैं और इन्होंने मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के जरिए बातचीत कर इस घटना को अंजाम देने की साजिश रची, जिसके लिए ये लोग हरियाणा के गुरुग्राम में एक फ्लैट में इक्टठा हुए, और पूरी प्लानिंग के तहत संसद की सुरक्षा में सेंध लगाई है. 

भगत सिंह के फैन क्लब से जुड़ा था सागर

सबसे ज्यादा चर्चा लखनऊ के सागर शर्मा की हो रही है क्योंकि सागर शहीद भगत सिंह से काफी प्रभावित था. जिसका खुलासा उसकी सोशल मीडिया अकाउंट से होता है. यहां तक की सागर भगत सिंह फैन क्लब में भी शामिल था. सागर शर्मा अपने फेसबुक वॉल पर अक्सर भगत सिंह से जुड़ी पोस्ट अपलोड करता था. सागर ने अपने फेसबुक वॉल पर दो अक्तूबर 2021 में शहीद भगत सिंह की एक तस्वीर पोस्ट की. इसके कैप्शन में लिखा-ये तस्वीर शहीद भगत सिंह की है. जो 29 मई से चार जुलाई के 1927 के बीच की है, जब उनको पहली बार गोपनीय तरीके से गिरफ्तार कर लाहौर के रेलवे स्टेशन में रखा गया था. साथ में CID डीएसपी लाहौर गोपाल सिंह पन्नू हैं. बेरोजगारी पर भी उसने पोस्ट किए हैं. सागर के पकड़े जाने के बाद परिवारीजनों को जब जानकारी हुई, तो वे हैरान रह गए. कुछ ही देर में मीडियाकर्मियों का जमावड़ा लग गया. सैकड़ों लोग इकट्ठा हो गए. उनका कहना था कि सागर बहुत साधारण रहता था. उसका कभी किसी से कोई विवाद नहीं हुआ. उसका कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं है. सबका एक ही सवाल था-आखिर उसने ऐसा क्यों किया?

लखनऊ में चलाथा था ई-रिक्शा

बता दें सागर शर्मा लखनऊ के आलमबाग का रहने वाला है. पुलिस के मुताबिक, सागर शर्मा का परिवार किराए के मकान में रहता है. उसके पिता रोशन लाल बढ़ई का काम करते हैं. सागर काफी गरीब घर से आता है वो ई रिक्शा चलाने का काम करता था. 11 तारीख को दिल्ली में प्रदर्शन करने के नाम पर घर से निकला और अचानक इतना बड़ा कांड कर दिया. इस खबर के बाद घरवाले भी सकते में हैं. सागर के मां का कहना है कि उन्हें नहीं पता था कि सागर संसद में घुस जाएगा. उन्होंने बताया कि इसके पीछे किसी की साजिश हो सकती है. वो किसी के बहकावे में आकर वहां चला गया. उनका बेटा बहुत सीधा है. बेटा दो साल तक बेंगलुरु में रहा था. वो रक्षाबंधन के पहले लौटा था. पहले बेंगलुरु में प्राइवेट नौकरी करता था. 

केंद्र सरकार के खिलाफ करता था पोस्ट


इसके अलावा सागर के सोशल मीडिया को खंगाला गया तो पाया कि वो केंद्र सरकार के खिलाफ भी पोस्ट करता रहता था. यहां तक इतिहास लिखने की बात करता था और स्टेटस लगता था. बता दें, सागर के परिवार के सदस्यों ने पुष्टि की कि वो कुछ दिन पहले ‘दिल्ली में विरोध प्रदर्शन’ में भाग लेने के लिए घर से निकला था, लेकिन वे संसद में हुई घटना में उसके इरादे के बारे में कुछ भी नहीं जानते थे. 
बता दें सागर का परिवार एक दशक से ज्यादा समय से किराए के मकान में ही रह रहा है. हालांकि सबसे ज्यादा चर्चे सागर ने जो सोशल मीडिया अकाउंट पर किए है उसके हो रहे है. इंस्टाग्राम में आखिरी पोस्ट में उसने लिखा है कि
जीते या हारे पर कोशिश तो जरूरी है, अब देखना ये है सफर कितना हसीन होगा, उम्मीद है फिर मिलेंगे
इसके साथ ही सागर ने एक पोस्ट ऐसा भी किया है जो खूब चर्चा में है दरअसल सागर ने लिखा है कि

एक इंसान को इंसान उसका लक्ष्य बनाता है
जिंदगी एक दिन मर जाने के लिए नहीं है
इसका बेहतरीन इस्तेमाल उन कार्यों के करिए
जो जीवन की परिभाषा बदल डालें
                                                सागर
आपको बता दें सागर और उसके साथी डी मनोरंजन जो की कर्नाटक के मैसूर का रहने वाला है. उसने बेंगलुरु की विवेकानंद यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है.

दिल्ली पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक सागर शर्मा मैसूर लोक सभा सांसद प्रताप सिम्हा के पास पर संसद में घुसा था. सागर शर्मा उन्नाव जनपद का मूल निवासी है. सागर शर्मा  पुरवा नगर पंचायत के पीरजादीगढ़ी मोहल्ले का रहने वाला है. सागर के पिता रौशन शर्मा करीब 15 साल से लखनऊ में रह रहे हैं. लखनऊ स्थित आलमबाग के पास रहते हैं. पुरवा नगर पंचायत के मोहल्ला पीरजादीगढ़ी में सागर के पिता का जर्जर घर है
वहीं दिल्ली पुलिस ने एंटी टेरर और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA) के तहत केस दर्ज कर लिया है. वहीं संसद सुरक्षा चूक मामला में दिल्ली पुलिस ने IPC की धारा 186, 353, 120B, 34 और 16 UAPA एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है. जबकि, जिन आरोपियों को सदन के बाहर से गिरफ्तार कर लिया. उनके नाम नीलम और अमोल शिंदे हैं. बता दें संसद भवन के बाहर धुआं छोड़ने वाले गैस कनस्तरों को खोलने के बाद अमोल शिंदे और नीलम ने "तानाशाही नहीं चलेगी" "भारत माता की जय" और "जय भीम, जय भारत" के नारे लगाए. नीलम ने दावा किया कि वो किसी संगठन का हिस्सा नहीं है.

 

कानपुर का हूं, 8 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं, पॉलिटिक्स एनालिसिस पर ज्यादा फोकस करता हूं, बेहतर कल की उम्मीद में खुद की तलाश करता हूं.

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!