तंबाकू से हर साल निकलता लाखों टन कचरा, जिससे बन जाए 33 बोइंग विमान

Home   >   खबरमंच   >   तंबाकू से हर साल निकलता लाखों टन कचरा, जिससे बन जाए 33 बोइंग विमान

143
views

तंबाकू से बने प्रोडक्टस सेहत के लिए खतरनाक होते हैं ये बात तो सबको पता है। लेकिन इसके प्रोडक्टस से निकलने वाले कचरे से पर्यावरण को कितना नुकसान पहुंचता है...शायद ही किसी को पता होगा। देश में तंबाकू से सलाना 6,07,347 टन एल्यूमीनियम कचरा निकलता है। चौंकने वाली बात ये है कि इतने एल्यूमीनियम कचरे से 33 नए बोइंग विमान बनाए जा सकते हैं। और क्या कुछ नोएडा की नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च यानी NICPR और जोधपुर एम्स ने साझा स्टडी में खुलासा किया है जान लेते हैं इस स्टोरी में।

NICPR और जोधपुर एम्स के रिसचर्स ने अपनी ये स्टडी इनवायरनमेंटल बर्डन ऑफ टोबैको प्रोडक्टस वेस्टेज इन इंडिया के तहत देश के 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 33 जिलों में की है। इस स्टडी में उन्होंने सिगरेट के 70 ब्रांड, बीड़ी के 94 ब्रांड और धुंआ रहित तंबाकू के 58 ब्रांड खरीदे और उनमें इस्तेमाल किए गए प्लास्टिक, कागज, पन्नी और फिल्टर से ये डेटा निकाला है।

देश में 28.6% लोग तंबाकू के प्रोड्क्टस का इस्तेमाल करते हैं। उनमें से सिगरेट पीने वाले 4%, बीड़ी पीने वाले 7.7% और घुआं रहित तंबाकू वाले 21.4% हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, एक साल में सभी तंबाकू प्रोड्क्टस के यूज और पैकेजिंग से 1,70,331 टन कचरा निकलता है। इसमें 40,866 टन सिगरेट से, 13,770 टन बीड़ी से और 1,15,715 टन कचरा धुआं रहित तंबाकू प्रोड्क्टस जैसे गुटखा, चैनी-खैनी से निकलता है।

देश में सबसे ज्यादा तंबाकू कचरा यूपी से निकलता है। यहां सभी तंबाकू प्रोड्क्टस और पैकेजिंग से 35,722 टन कचरा हर साल निकलता है। वहीं दूसरे पर पश्चिम बंगाल और तीसरे नंबर पर तमिलनाडू का नंबर आता है।

वहीं तंबाकू कितना जानलेवा है इसका अंदाजा इस बात से लगा लिजिए की देश में हर साल करीब साढ़े 3 हजार लोग तंबाकू से होने वाले कैंसर से अपनी जान देते हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!