नसीरुद्दीन शाह ने फिल्म द केरल स्टोरी और पीएम मोदी के लिए बोल दी ये चुभने वाली बात

Home   >   रंगमंच   >   नसीरुद्दीन शाह ने फिल्म द केरल स्टोरी और पीएम मोदी के लिए बोल दी ये चुभने वाली बात

95
views

द केरला स्टोरी वो फिल्म जिसके टीजर आने से लेकर अब जब ये फिल्म करीब 230 करोड़ तक का अच्छा-खासा बिजनेस पर चुकी है, तब भी इस पर विवाद जारी है। फेमस एक्टर नसीरुद्दीन शाह ने फिल्म देखने से इंकार कर दिया। साथ ही उन्होंने मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने को फैशन इस्लामोफोबिया बताया।

एक्टर नसीरुद्दीन शाह ने एक इंटरव्यू के दौरान कुछ फिल्मों और शोज को दुष्प्रचार और प्रोपेगेंडा के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है? इसको लेकर बातचीत की। उन्होंने कहा 'स्क्रीन पर जो कुछ भी दिखाया जाता है, वो सभी हमारे आस-पास समाज में हो रही चीजों और मूड का ही रिफ्लेक्शन है। इस्लामोफोबिया और ये सब इसका चुनाव में वोट पाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। मैंने अभी तक 'द केरल स्टोरी' नहीं देखी है और न ही देखने का कोई इरादा रखता हूं। क्योंकि मैंने पहले ही इसके बारे में बहुत कुछ पढ़ लिया है।

उन्होंने इस ट्रेंड की तुलना नाजी जर्मनी से की। उन्होंने कहा, "ये बहुत खतरनाक ट्रेंड है। इसमें कोई संदेह नहीं है। ऐसा लगता है कि हम नाजी जर्मनी की ओर बढ़ रहे हैं। हिटलर के समय में फिल्म निर्माताओं को नेता अपनी प्रशंसा करने वाली फिल्में बनाने के लिए कहते थे। इस ट्रेंड की वजह से कई महान निर्माता जर्मनी छोड़कर हॉलीवुड चले गए और वहां फिल्में बनाने लगे। यहां भी कुछ ऐसा ही होता नजर आ रहा है।

इसे उन्होंने चिंताजनक भी बताया और कहा- ये बेहद चिंताजनक समय है। इस तरह की चीजें आजकल मुसलमानों से नफरत करना फैशन हो गया है। पढ़े-लिखे लोगों में भी मुसलमानों से नफरत करना आजकल फैशन बन गया है। सत्ताधारी दल ने बड़ी चतुराई से लोगों में फीड किया है। एक नैरेटिव सेट किया है। हम धर्मनिरपेक्ष होने और लोकतंत्र की बात करते हैं, तो आप हर चीज में धर्म का परिचय क्यों दे रहे हैं?'

वो यही नहीं रुके अभिनेता ने ये सवाल उठाया कि चुनाव आयोग सत्ताधारी पक्ष पर किसी बात पर आवाज नहीं उठाता। उन्होंने कहा- कोई मुसलमान नेता होता और वो कहता कि अल्लाहू अकबर बोलके बटन दबाओ, तो बवाल मच जाता। लेकिन यहां हमारे पीएम साहब आगे बढ़कर ऐसी चीजें बोलते हैं। फिर भी वो गुस्सा हो जाते हैं।

वैसे बता दें पीएम मोदी ने अपनी कर्नाटक सभा के दौरान हनुमान जी का नाम लेकर बटन दबाना, इसे एक स्पीच के दौरान इस्तेमाल किया था, जो काफी चर्चा में रहा था। नवाजुद्दीन सिद्दीकी का बयान इस पर आधारित है, ऐसा कहा जा सकता है। हालांकि नसीरुद्दीन शाह ने ये उम्मीद भी जताई कि इस तरह की चीजें जल्द खत्म हो जाएंगी, लेकिन अभी का वक्त बेहद चिंताजनक है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!