कहानी विनोद मेहरा की जो मेनस्ट्रीम एक्टर न होकर भी दिलों में करते थे राज

Home   >   किरदार   >   कहानी विनोद मेहरा की जो मेनस्ट्रीम एक्टर न होकर भी दिलों में करते थे राज

223
views

विनोद मेहरा भले ही मेनस्ट्रीम एक्टर नहीं थे लेकिन उनकी बॉलीवुड में एक खास जगह थी। विनोद मेहरा के बारे में कहा जाता था कि उन्हें हर रोल जीना आता था। हीरो का दोस्त होपुलिसवाला, वकील, भाई, पिता और अंकल जैसे कई किरदार उन्होंने बखूबी निभाए। बहुत ही कम उम्र में दुनिया से अलविदा कहने वाले विनोद मेहरा जिनके जाने के बाद उनकी 10 से ज्यादा फिल्में रिलीज हुई।

महज 10 साल की उम्र में बॉलीवुड में साल 1955 में रिलीज हुई फिल्म 'आदिल-ए-जहांगीर' में एक चाइल्ड आर्टिस्ट से करियर की शुरुआत की। लगभग 16 सालों तक चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में काम करने वाले विनोद मेहरा की साल 1971 में करीब 6 फिल्में रिलीज हुई। जिसमें उन्होंने छोटे-छोटे मगर बेहद दमदार रोल किए। इनमें अमर प्रेम और अनुरागजैसी फिल्में है जो लोगों के दिलों में जगह बनाते हैं। इसके बाद साल दर साल नागिन, जानी दुश्मन, घर, स्वर्ग नर्क, साजन बिना सुहागन, एक ही रास्ता, अनुरोध, अमर दीप और बेमिसाल जैसी फिल्मों में उन्होंने यादगार रोल किए निभाए। विनोद मेहरा अपनी निजी जिंदगी की वजह से हमेशा चर्चा में रहे। उनकी पहली शादी साल 1971 में रिलीज हुई फिल्म 'एक थी रीटा' की हिरोइन मीना ब्रोका से की। लेकिन शादी के कुछ समय बाद उनकी निजी जिंदगी बदल गई। मीना से उनके रिश्ते खराब हो गए और बाद में दोनों ने तलाक ले लिया। मीना के बाद हीरोइन बिंदिया गोस्वामी से साथ विनोद मेहरा का अफेयर रहा। कहा ये भी जाता है कि दोनों ने शादी भी कर ली थी। लेकिन दोनों का ये रिश्ता भी ज्यादा समय तक नहीं टिक सके। इसके बाद फिर विनोद खन्ना की जिंदगी में रेखा की एंट्री हुई।

बीबीसी की खबर के मुताबिक, विनोद मेहरा अपनी मां को रेखा से शादी के लिए नहीं मना पाए। जब वो कोलकाता में शादी कर रेखा को सीधे एयरपोर्ट से अपने घर ले गए और रेखा ने विनोद मेहरा की मां कमला मेहरा के पांव छूने चाहे तो उन्होंने उन्हें धक्का दे दिया। इस तरह ये रिश्ता खत्म हो गया। इसके बाद विनोद मेहरा ने किरण नाम की लड़की से शादी कर ली। ये रिश्ता अंत तक चला। दोनों के एक बेटा और बेटी हुई। 13 जनवरी साल 1945 को पंजाब में जन्मे विनोद मेहरा ने साल 1990 को दुनिया को अलविदा कह दिया। उनकी मौत की वजह हार्ट अटैक थी और उस वक्त उनकी उम्र मात्र 45 साल थी। विनोद मेहरा के जाने के बाद साल 1991 से लेकर साल 2010 तक उनकी 10 फिल्में रिलीज हुई जिनमें 'पत्थर के फूल', 'शिकारी', 'कोहराम', 'आतंक' और 'आहट' जैसी फिल्मे थी इनमें इनके छोटे-छोटे लेकिन अहम रोल थे।

सुनता सब की हूं लेकिन दिल से लिखता हूं, मेरे विचार व्यक्तिगत हैं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!