पाकिस्तान world cup boycott की दे रहा धमकी, Asia cup का लेना चाहता है बदला!

Home   >   रनबाज़   >   पाकिस्तान world cup boycott की दे रहा धमकी, Asia cup का लेना चाहता है बदला!

100
views

इंडिया में 3 महीने बाद होने वाले वनडे वर्ल्ड कप मैच में पाकिस्तान की भागीदारी को लेकर अभी भी पेंच फंसा हुआ है। पाकिस्तान लगातार भारत में नहीं खेलने के रूख पर कायम है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के कार्यवाहक अध्यक्ष जका अशरफ इस हफ्ते होने वाली ICC की बैठक में डरबन पहुंचे हैं। जहां वो इस बैठक में पाकिस्तान के वर्ल्ड कप मैच किसी न्यूट्रल वेन्यू पर कराने की मांग कर सकते हैं। जैसा भारतीय बोर्ड BCCI ने पाकिस्तान के साथ एशिया कप में किया है। हालांकि तमाम फैक्टर्स इस ओर इशारा कर रहे हैं कि पाकिस्तान वर्ल्ड कप बॉयकॉट की धमकी तो दे सकता है, लेकिन हकीकत में ऐसा नहीं कर सकता है। आइए जानते आखिर क्यों...

31 अगस्त से 17 सितंबर तक होने वाला एशिया कप कहने को तो पाकिस्तान की मेज़बानी में हो रहा है, लेकिन सिर्फ 4 मैच उसके देश में हो रहे हैं जबकि 9 मैच श्रीलंका में खेले जाएंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि इंडिया ने दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंधों के कारण एशिया कप के अपने मैच पाकिस्तान में खेलने से इंकार कर दिया था। इस महाद्वीपीय टूर्नामेंट को लेकर महीनों तक अटकलबाजी लगाए जाने के बाद एशियन क्रिकेट काउंसिल ने घोषणा करी थी कि ये टूर्नामेंट हाइब्रिड मॉडल के आधार पर खेली जाएगी। बस...इसी फैसले के बाद से पाकिस्तान बोर्ड भारत से नाराज है।

पाकिस्तान भारत की मेजबानी में 5 अक्टूबर से 19 नवंबर तक होने वाले वनडे वर्ल्ड कप के बायकॉट की बार-बार धमकी दे रहा है। हाल ही में पाकिस्तान के खेल मंत्री एहसान मजारी ने कहा, 'मैं चाहता हूं कि भारत एशिया कप मैच न्यूट्रल वेन्यू पर खेलने की मांग को छोड़े, वर्ना हम भी वर्ल्ड कप में खेलने के लिए भारत नहीं जाएंगे।

एहसान मजरी आगे कहते हैं, 'जका अशरफ ICC की बैठक में ये मुद्दा उठाएंगे कि जब भारतीय टीम एशिया कप के लिए पाकिस्तान का दौरा नहीं कर सकती है, तो फिर पाकिस्तान के वर्ल्ड कप मैच क्यों ना न्यूट्रल वेन्यू पर करवाए जाएं।'

माजरी ने इसके साथ ही दावा किया कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ द्वारा गठित की गई विशेष समिति के अन्य सदस्यों का भी मानना है कि भारत के पाकिस्तान का दौरा नहीं करने को लेकर कड़ा रुख अपनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘अगर भारतीय बोर्ड के अनुसार उन्हें पाकिस्तान में सुरक्षा को लेकर परेशानी है तो हम भी भारत में सुरक्षा स्थिति को लेकर सवाल उठा सकते हैं।'

एहसान माजरी ने वर्ल्ड कप को लेकर बड़ी-बड़ी बातें तो कर दी पर ये नहीं सोचा कि अगर पाकिस्तान वर्ल्ड कप का बायकॉट करता है तो PCB को कितना बड़ा नुकसान झेलना होगा।

PCB हो जाएगा कंगाल

वर्ल्ड कप बायकॉट करने की स्थिति में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी ICC से मिलने वाला फंड रुक सकता है। PCB की कुल कमाई का 50 फीसदी हिस्सा इसी फंड से आता है। ICC डिस्ट्रीब्यूशन प्लान के अनुसार अगले 4 साल में पाकिस्तान बोर्ड को 283 करोड़ रुपए मिलने हैं। इतनी बड़ी रकम अटकने से पाक बोर्ड की हर एक्टिविटी थम जाएगी।

वर्ल्ड क्रिकेट से अलग-थलग हो जाएगा 

बायकॉट की स्थिति में पाकिस्तान वर्ल्ड क्रिकेट से अलग-थलग हो जाएगा, क्योंकि वर्ल्ड कप, चैंपियंस ट्रॉफी और एशिया कप जैसे इवेंट ही पाकिस्तान को दुनिया की क्रिकेट कम्युनिटी से जोड़ते हैं। 2009 में श्रीलंकाई टीम पर आतंकी हमले के बाद से प्रमुख क्रिकेट टीमें पाकिस्तान में खेलने से कतराने लगी थीं। पिछले साल से ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, श्रीलंका और इंग्लैंड जैसे देशों ने पाकिस्तान में क्रिकेट खेलना शुरू किया है, लेकिन अब भी पाकिस्तान में अन्य देशों की तुलना में कम क्रिकेट होती है। वर्ल्ड कप जैसे इवेंट के बायकॉट की स्थिति में पाकिस्तान आइसोलेशन में जा सकता है।

लग सकता है बैन

वर्ल्ड कप नहीं खेलने की स्थिति में ICC पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पर बैन भी लगा सकता है। पाक पर ये बैन अनुशासनात्मक कार्रवाई के तहत लग सकता है, क्योंकि सभी टीमों का ICC इवेंट्स में हिस्सा लेना अनिवार्य है।

चैंपियंस ट्रॉफी की छिन जाएगी मेज़बानी

वर्ल्ड कप छोड़ने की स्थिति में पाकिस्तान में 2025 में आयोजित होने वाली चैंपियंस ट्रॉफी खटाई में पड़ जाएगी, क्योंकि उस स्थिति में भारत भी चैंपियंस ट्रॉफी खेलने पाकिस्तान नहीं जाएगा। भारत के बिना किसी भी ICC इवेंट का सफल आयोजन संभव नहीं है क्योंकि ICC इवेंट्स की 80% कमाई भारतीय दर्शकों से होती है। इस स्थिति में ICC पाकिस्तान से चैंपियंस ट्रॉफी की मेजबानी छीन सकती है। पाकिस्तान को 29 साल बाद किसी ICC इवेंट की मेज़बानी मिली है।

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के बार-बार वर्ल्ड कप बायकॉट करने का राग अलापने के पीछे कई वजह सामने आ रही है। पहली वजह है..

भारत के विरोध के कारण ही एशिया कप के ज्यादातर मुकाबले श्रीलंका में हो रहे हैं। ऐसे में पाकिस्तान बोर्ड भारत से बदला लेना चाहता है या कम से कम ऐसा करते हुए दिखना चाहता है। 

-    पाकिस्तानी सरकार और अपने घरेलू दर्शकों को खुश करना चाहता है PCB, यही वजह है कि वो भारत का विरोध कर रहा है।

-    इस साल के आखिरी में पाकिस्तान में आम चुनाव होने हैं। ऐसे में पाकिस्तानी सरकार भारत का विरोध करके अपना वोट बैंक बनाना चाहती है।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!