कर्नाटक और महाराष्ट्र में पीएम मोदी ने शुरू किया मिशन 2024 प्लान, 2023 के चुनाव में करना होगा ये काम

Home   >   खबरमंच   >   कर्नाटक और महाराष्ट्र में पीएम मोदी ने शुरू किया मिशन 2024 प्लान, 2023 के चुनाव में करना होगा ये काम

144
views

नौ राज्यों का चुनाव प्रधानमंत्री और बीजेपी के लिए 2024 के आम चुनाव का सेमीफाइनल होगा। इसी सेमीफाइनल को जीतने के लिए पीएम मोदी और उनकी टीम लगातार मैदान में पसीना बहा रही है। इसलिए पीएम मोदी कर्नाटक और महाराष्ट्र के फिटनेस टेस्ट लेने पहुंचे। जहां पीएम मोदी ने कर्नाटक और महाराष्ट्र के लोगों को कई सौगातें दी। इन सौगातों को 2023 के चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

इसी साल कर्नाटक में विधानसभा और महाराष्ट्र में बीएमसी का चुनाव होना है। वहीं दोनों राज्य सीमा विवाद को लेकर लड़ रहे हैं। बीजेपी के लिए 2023 में होने वाली कर्नाटक की सियासी जंग जीतना बहुत अहम है। क्योंकि बीजेपी को बहुत अच्छे से पता कि कर्नाटक से होकर ही दक्षिणी राज्यों में सत्ता का विजय रथ आगे बढ़ सकता है। जिन 4 बड़े राज्यों में चुनाव होने हैं उनमें कर्नाटक ही एक ऐसा राज्य है जो दक्षिण भारत में आता है। दक्षिण भारत में कर्नाटक बीजेपी के लिए एकमात्र गढ़ है। इस बार बीजेपी ने कर्नाटक को लेकर 136 सीटें जीतने का टारगेट रखा है। इसके लिए पीएम मोदी भी दमखम लगाये हुए हैं लेकिन महाराष्ट्र से चल रहे सीमा विवाद ने मोदी सरकार के माथे की रेखा को बढ़ा दिया है।

कर्नाटक विधानसभा में कुल 224 सीटें है और सत्ता के लिए 113 सीटों की जरुरत होती है। 2023 में होने वाला चुनाव कर्नाटक की सियासत के लिए आसान नहीं हैं। एक तरफ बीजेपी यहां पार्टी की अंतर्कलह से जुझ रही। तो वहीं जीडीएस और तेलगांना सीएम के.चंद्रशेखर राव एक साथ चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं। तो वहीं 2018 में जीडीएस और कांग्रेस एक साथ मिलकर कर्नाटका में सरकार बना चुके हैं। इसके साथ ही दक्षिणी कर्नाटक में राहुल गांधी को भारत जोड़ो यात्रा से फायदा मिलने की आस है। वहीं बोम्मई सरकार को वोक्कालिगा समुदाय के लिए आरक्षण बढ़ाने के मुद्दे से भी निपटना होगा। ये समुदाय अपने लिए 4 से बढ़ाकर 12 फीसदी आरक्षण की मांग कर रहा है। दूसरा मुद्दा है बीजेपी में अंतर्कलह होना , इसकी शुरूआत तब हुई जब साल 2019 में किसी तरह बीजेपी ने सरकार बनाकर बीएस येदियुरप्पा को सीएम बनाया।

लेकिन दो साल के भीतर ही बीजेपी को येदियुरप्पा की जगह लिंगायत समुदाय से ही आने वाले बसवराज सोमप्पा बोम्मई को राज्य की कमान देनी पड़ी. जिसके बाद से बीजेपी में अंदर काफी द्वंद चल रहा है। दिल्ली में हुई राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक से पहले बीएस येदियुरप्पा ने पीएम मोदी से भी मुलाकात की थी। जिसके बाद से कयास लगाये जा रहे हैं कि बीजेपी यहां गुजरात जैसा प्लान लागू कर सकती है, यानी चुनाव से पहली राज्य का मुख्यमंत्री बदला जा सकता है। वहीं महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच चल रहा सीमा विवाद जोकि थमा नहीं है। वो भी बीजेपी के लिए मुसीबत बन सकता है। बीते साल दिसंबर में दोनों राज्यों में मुद्दे को लेकर माहौल काफी गरमा गया था। सीमा विवाद को लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और कर्नाटक सीएम बसवराज बोम्मई केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से भी मिले थे। 

महाराष्ट्र में भी बीजेपी की मुसीबतें कम नहीं है। यहां 2023 में बीएमसी का भी चुनाव होना है। बीएमसी चुनाव में बीजेपी और शिवसेना के बीच टक्कर मानी जा रही है। बीजेपी और सीएम एकनाथ शिंदे की शिवसेना एकसाथ चुनाव में उतरेगी और उद्धव ठाकरे को टक्कर देगी। मुंबई में पार्टी शिवसेना के नियंत्रण से BMC हासिल करने की योजना बना रही है। साल 2017 के चुनाव में बीजेपी ने BMC में 82 सीटें जीतकर दूसरे स्थान पर रही थी। 

महाराष्ट्र में, बीजेपी ने भले ही शिवसेना को तोड़कर सत्ता में वापसी की हो, लेकिन बीजेपी का महाराष्ट्र में पूरा कंट्रोल नहीं है। शिवसेना से अलग हुए धड़े और बीजेपी की मिलीजुली सरकार कितनी टिकाऊ होगी, ये इस साल मुंबई ठाणे में होने वाले निकाय चुनाव के नतीजों पर निर्भर करेगा। 

फिलहाल, दोनों ही राज्यों पर चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है, लेकिन सियासी माहौल बनने लगा है। एक ओर जहां दक्षिण में विस्तार की कोशिशों में जुटी बीजेपी के लिए कर्नाटक में सत्ता में बने रहने की चुनौती है। वहीं, मुंबई में पार्टी शिवसेना के नियंत्रण से BMC हासिल करने की योजना बना रही है। इसीलिए, साल 2023 कई मायनों में 2024 के आम चुनाव के सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा है।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!