दुनिया की सबसे महंगी टी20 लीग शुरू करेगा सऊदी अरब, बीसीसीआई से मांगा साथ

Home   >   रनबाज़   >   दुनिया की सबसे महंगी टी20 लीग शुरू करेगा सऊदी अरब, बीसीसीआई से मांगा साथ

85
views

दुनियाभर में फ्रेंचाइजी क्रिकेट लीग का क्रेज लगातार बढ़ रहा है। साल 2008 में इंडिया में शुरू हुए इंडियन प्रीमियर लीग यानी IPL की सफलता के बाद पिछले कुछ सालों में वेस्टइंडीज, बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशों ने अपने देश में इस लीग को शुरू किया था और ये सफल भी रही हैं। अब इस बीच सऊदी अरब की सरकार भी अपने देश में IPL से बड़ी और महंगी टी20 लीग सेट-अप करना चाहती है। जिसके लिए वो पिछले एक साल से क्रिकेट बोर्ड ICC, BCCI और IPL फ्रेंचाइजी मालिकों से बातचीत कर रहा है। इस स्टोरी में जानेंगे आखिर सऊदी अरब लगातार अन्य खेलों के बाद फ्रेंचाइजी क्रिकेट में क्यों मोटा इंवेस्टमेंट कर रहा है।

सऊदी अरब का खेल में इन्वेस्टमेंट

सऊदी अरब को वैसे तो विश्व में सबसे बड़े कच्चे तेल के उत्पादक देशों में एक माना जाता है। लेकिन इधर बीते कुछ सालों में इस गल्फ कंट्री की रूची खेल में बढ़ी है। बीते साल स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो को इस देश के क्लब अल नस्र ने उन्हें भारी भरकम राशि देकर अपने साथ जोड़ा है। सऊदी अरब सरकार ने अपने यहां सऊदी अरब ग्रांड प्रिक्स शुरू कर फार्मुला-1 में एंट्री की है। गोल्फ में भी सऊदी सरकार ने भारी निवेश कर LIV Golf शुरू किया है। इसके अलावा इस देश ने अपने पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड से प्रीमियर लीग के फुटबॉल क्लब 'न्यूकासल यूनाइटेड' को भी टेक ओवर किया है। अब यहां की सरकार क्रिकेट में मौके तलाश रही है।  

हाल ही में ICC के प्रेसिडेंट ग्रेग बार्कले ने सऊदी अरब के क्रिकेट में बढ़ते इंटरेस्ट पर कहा कि अगर आप बाकी खेलों को देखें, जिसमें वे शामिल रहे हैं, तो मुझे लगता है कि क्रिकेट उनके लिए आकर्षक होगा। आमतौर पर खेल में उनकी उन्नति को देखते हुए, सऊदी अरब के लिए क्रिकेट काफी अच्छा काम करेगा। और वे खेल में निवेश करने के लिए काफी एक्साइटेड हैं।

सऊदी अरब अपनी इस लीग में दूसरे देशों के अलावा इंडिया और पाकिस्तान के खिलाड़ियों को खिला कर लोकप्रियता बढ़ाने के साथ मोटा पैसा भी कमाना चाह रहा है। पर भारतीय खिलाड़ियों का खेलना मुश्किल है, इसके दो कारण हैं। पहला भारतीय खिलाड़ियों के खेलने से IPL की ब्रॉन्ड वैल्यू पर बड़ा असर पड़ेगा। दूसरा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी BCCI का नियम है कि भारतीय खिलाड़ी रिटायरमेंट के बाद ही विदेशी लीग्स में खेल सकते हैं।

वहीं बिना रिटायरमेंट के भारतीय खिलाड़ियों के सऊदी लीग में खेलने के सवाल पर BCCI के एक ऑफिशियल ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि, कोई भी मौजूदा भारतीय खिलाड़ी किसी भी लीग में हिस्सा नहीं लेगा, लेकिन जहां तक फ्रेंचाइजी की भागीदारी की बात है, हम उन्हें नहीं रोक सकते।


Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!