South korea ने रातों-रात करीब 5 करोड़ लोगों की उम्र घटा दी, ख़त्म कर दिया ये देसी तरीका।

Home   >   खबरमंच   >   South korea ने रातों-रात करीब 5 करोड़ लोगों की उम्र घटा दी, ख़त्म कर दिया ये देसी तरीका।

153
views

कभी न कभी हम सभी सिचुएशन के हिसाब से उम्र को कम करके बताना पसंद करते हैं... लेकिन अगर सरकार ही आपकी उम्र को दो साल घटा दे, तो इसपर आप क्या कहेगें? साउथ कोरिया में रातों-रात लोगों की उम्र एक से दो साल कम होने वाली है....

 साउथ कोरिया को कैपिटल ऑफ प्लास्टिक सर्जरी कहा जाता है। यहां लोग अपनी उम्र से छोटा दिखने की चाह में सर्जरीस कराते हैं। वहीं दक्षिण कोरिया में उम्र को भी काफी तवज्जों दी जाती है। यहां तक की दोस्त बनाते व़क्त भी उम्र की अच्छी ख़ासी अहमियत होती है। वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक साउथ कोरिया की आबादी 2021 तक 5.17 करोड़ हैं। इसमें अब सभी की उम्र में एक-दो साल कम हो जाएंगे। हालांकि ये सिर्फ काग़जों में ही होगा, असलियत में नहीं।

 दरअसल, साउथ कोरिया में बीते गुरुवार को उम्र को गिनने के ‘ट्रैडीशनल तरीके’ को खत्म करने के लिए वोटिंग हुई। अब जनवरी 2023 से अब साउथ कोरिया में भी ...इंटरनेशनल स्टैंडर्ड की तरह ही लोगों की उम्र काउंट होगी।

 साउथ कोरिया का एज काउंटिंग का तरीका काफी इंटरेस्टिंग है। जहां पूरी दुनिया अपनी उम्र कम करना चाहिती है, तो दक्षिण कोरिया में जब बच्चा पैदा होता है। वो एक साल का होता है।

 साउथ कोरिया में उम्र को दो तरह से गिना जाता है। पहला है इंटरनेशनल एज, तो दूसरा है ट्रैडिशनल कोरियन तरीका। डाक्यूमेंट्स में इंटरनेशनल एज का ही इस्तेमाल होता है, लेकिन अपने फेस्टिवल्स और देशी कार्यक्रमों में लोग कोरियन एज को प्रिफ़र करते हैं। अब ये दो एज सिस्टम है क्या ये जान लेते हैं।

कोरियन एज यानी कि इंटरनेशनल एज से करीब एक साल ज्यादा। मतलब जब बच्चा पैदा होता है, तो वो एक साल का होता है। कोरियन्स इसे महिला के गर्भवती होने के समय से जोड़कर देखते हैं। इसलिए जब बच्चा पैदा होता है, तो वो पहले ही एक साल का होता है। यानी पैदा होने के एक साल बाद बच्चा दो साल को हो जाएगा।

 वहीं साउथ कोरिया में कई जगह पर इसे इस तरह भी देखते हैं कि जब बच्चा पैदा हुआ, तो वो जीरो दिन का है, लेकिन नए साल यानी कि एक जनवरी को वो एक साल का हो जाएगा। यानी कि जो बच्चा 31 दिसंबर को जन्म लेता है, एक साल को वो एक साल का माना जाएगा, कोरियन एज के हिसाब से।

 वहीं दूसरा तरीका इंटरनेशनल एज के स्टैंडर्ड का होता है। ये किसी अन्य देश की तरह ही होते हैं। कोरियन एज को खत्म करने के ऐलान में साउथ कोरिया के की ट्रांजिशन कमेटी के चीफ ली योंग-हो ने कहा कि अलग-अलग तरीकों से उम्र गिनने पर लगातार कन्फ्यूजन होता था। सामाजिक और आर्थिक नुकसान भी होते थे। दिसंबर में पैदा हुए बच्चों के पेरेंट्स को लगता था कि उनके बच्चों को नुकसान झेलना पड़ेगा।

साउथ कोरिया में पिछले साल एक हजार लोगों पर रिसर्च कि, तो 10 में से 7 कोरियाई लोग इस ट्रैडिसनल एज काउंट को पसंद नहीं करते हैं। ज़्यादातर का मानना है कि इससे उनका मज़ाक बनता है कि उनकी दो एज हैं। तो वहीं सैलेरी में भी इसको लेकर परेशानी होती है। विश्व में साउथ कोरिया के साथ-साथ चीन, जापान और वियतनाम में ट्रैडीशनल तरीके से एज काउंट सिस्टम है।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!