Amrish Puri के Birthday पर उनके फिल्मी सफर की Untold story

Home   >   रंगमंच   >   Amrish Puri के Birthday पर उनके फिल्मी सफर की Untold story

140
views

एक था विलेन...फिल्म नहीं, वो विलेन जिसने इस शब्द को अपने नाम का पर्याय बना लिया। बॉलीवुड में हीरो बनने की चाहत में आए अमरीश पुरी... अपनी रौबदार आवाज और लुक के लिए डायरेक्टर्स की स्क्रिप्ट में विलेन रोल के लिए फिट बैठे...और बॉलीवुड के सबसे पसंदीदा विलेन्स में से एक बन गए।

भले ही... अमरीश पुरी के हीरो बनने की ख्वाहिश पूरी न हुई हो, लेकिन जिस समय फिल्मों में हीरो का बोलबाला होता था, उस समय अमरीश पुरी ने अपनी स्कीन प्रेजेंस से सभी की वाहवाहियां लूटी। शुरुआत में अमरीश पुरी को छोटे-छोटे रोल मिलते रहे, लेकिन पहला बड़ा रोल मिला 1970 में फिल्म प्रेम-पुजारी में...उसके बाद त्रिदेव, मिस्टर इंडिया, कोयला, गदर, नायक और डीडीएलजे में बाबू जी वाले रोल....जा सिमरन से उन्होंने सभी के दिलों में अपनी जगह बना ली।

अमरीश पुरी जो अदायकी स्क्रीन पर दिखाते थे, उसका इम्पेक्ट असल ज़िंदगी में भी दिखता था। एक किस्से के दौरान अमरीश पुरी के बेटे राजीव ने बताया कि जब उनके दोस्त घर आते, तो पहले अमरीश पुरी से सहमें रहते थे, लेकिन बाद ये धीरे-धीरे खत्म हुआ।

अमरीश पुरी निजी जिंदगी में काफी पंचुअल और अनुशासन पसंद व्यक्ति रहे...सेट के दौरान के ऐसे कई किस्से हैं। मिस्टर परफेक्टनिस्ट आमिर खान फिल्म के दौरान डायलॉग की कन्टिन्यूटी के चलते अमरीश पुरी को बार-बार रोक देते थे। तब अमरीश पुरी ने उन्हें डॉट लगा दी थी। हालांकि बाद में उन्हें जब पता चला कि गलती आमिर खान की नहीं थी, तो उन्होंने माफी भी मांग ली थी।

ऐसे ही शूट के दौरान एक बार गोविंदा सेट पर काफी लेट हो गए थे, जिसके बाद अमरीश पुरी गोविंदा की इस आदत से काफी नाराज भी हुए थे और बहस के बाद गोविंदा को थप्पड़ भी लगा दिया था। नवाशहर पंजाब में 1932 में जन्में अमरीश पुरी ने 72 सास की उम्र में 12 जनवरी 2005 में दुनिया को अलविदा कह दिया था। करीब 450 फिल्मों में काम करने वाले अमरीश पुरी के एक पैर में 11 और दूसरे पैर में 12 नंबर का जूता आता था। उनके फैंस आज भी उनकी फिल्मों को देखकर अभिनेता को बॉलीवुड का सबसे पसंदीदा विलेन मानते हैं।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!