कौन है Dirty Harry, क्या सच में इस शख्स ने पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान की हत्या की साजिश रची थी ?

Home   >   मंचनामा   >   कौन है Dirty Harry, क्या सच में इस शख्स ने पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान की हत्या की साजिश रची थी ?

86
views

भ्रष्टाचार के मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और पीटीआई अध्यक्ष इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद मचे कोहराम से कोई भी बेखबर नहीं है, लेकिन गिरफ्तारी से पहले इमरान खान ने अपने ट्विटर अकांउट पर एक वीडियो जारी किया था, जिसमें उन्होंने फैसल नसीर नाम के इंसान का जिक्र करते हुए उसे ‘ब्रिगेडियर’ और ‘डर्टी हैरी’ बताया. इमरान ने कहा, उस शख्स ने कई बार उनकी हत्या करने की कोशिश की और पत्रकार अरशद शरीफ की हत्या के पीछे भी उस शख्स को जिम्मेदार बताया। आज हम बात करेंगे इसी डर्टी हैरी के बारे में....

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इमरान खान की सरकार गिरने के बाद पत्रकार अरशद शरीफ, पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार के आलोचक थे. जिसके चलते उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई। इस वजह से अरशद ने देश छोड़ दिया. पाकिस्तान से जाने के बाद उनके नए ठिकाने की किसी को जानकारी नहीं थी. उनके कुछ दोस्तों को सिर्फ इतना पता था कि शरीफ कुछ दिन दुबई और लंदन में रहे हैं. 23 अक्टूबर, 2022 को केन्या में अरशद शरीफ की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

शरीफ की मां रिफत आरा अल्वी ने बीते साल दिसंबर में पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश उमर अता बंदियाल को एक पत्र लिखा था। इसमें उनके बेटे की हत्या की जांच के लिए एक न्यायिक आयोग के गठन करने की मांग की थी। चिट्ठी में पत्रकार की मां ने ‘सेना के ताकतवर गुट’ का जिक्र किया था। 

इसकी जांच तब पाकिस्तानी के अध्यक्ष कमर जावेद बाजवा और आईएसआई के डायरेक्टर जनरल नदीम अंजुम कर रहे थे। आरोप लगाया गया कि ब्रिगेडियर मोहम्मद शफीक मलिक जिसे ‘गंजा शैतान’ कहा जाता है, ब्रिगेडियर फहीन रज़ा और आईएसआई के मेजर जनरल फैसल नसीर अशरफ को धमकी देने लगे।

यही फैसल नसीर उर्फ ‘डर्टी हैरी’ है, जिसका जिक्र अब इमरान खान कर रहे हैं। वो इसी पाकिस्तानी जनरल पर आरोप लगा रहे हैं कि फैसल ने ही प्रधानमंत्री शहबाज़ शरीफ और सरकार में मंत्री राणा सनाउल्लाह के साथ मिलकर वजीराबाद में उनकी हत्या की साजिश रची। 

साल 1992 में फैसल नसीर पाकिस्तानी आर्मी में कमीशन्ड हुए। 1992 में पाकिस्तान सेना में भर्ती होने के बाद नसीर की तैनाती कोर ऑफ मिलिट्री इंटेलिजेंस में हुई। उन्होंने बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में सेना से जुड़े कई ऑपरेशन को अंजाम दिया। सेना में रहकर नसीर ने कई खुफिया ऑपरेशन भी चलाए। फैसल की पहचान पाकिस्तान में जासूस के तौर पर भी होती है। बीते साल अक्टूबर में उन्हें ब्रिगेडियर रैंक से मेजरल जनरल की रैंक पर प्रमोट किया गया था। ये पद पाने के बाद नसीर को खुफिया एजेंसी आईएसआई में डायरेक्टर जनरल काउंटर इंटेलिजेंस का पद दिया गया। जो आईएसआई प्रमुख के बाद सबसे बड़ा पद होता है। जिसका काम अंदरूनी सुरक्षा को संभालना है।

पहली बार फैसल नसीर के नाम की चर्चा अगस्त 2022 में हुई, जब इमरान खान के करीबी शहबाज गिल को इस्लामाबाद में गिरफ्तार किया गया। पहली बार इमरान ने इस घटना का जिक्र करते हुए ही उन्हें डर्टी हैरी कहकर सम्बोधित किया था। इतना ही नहीं तोशाखाना मामले में इमरान के खिलाफ लगे आरोपों में भी डर्टी हैरी की भूमिका बताई गई थी।  

नसीर के पिता शम्मा खालिद पाकिस्तान के प्रसिद्ध लेखक रहे हैं। लम्बे समय तक उन्होंने पाकिस्तान रेडियो में उप-नियंत्रक के तौर पर काम किया। उन्हें पाकिस्तानी राष्ट्रपति की ओर से सितारा-ए-इम्तियाज और नसीर को हिलाल-ए-शुजात पुरस्कार से नवाजा जा चुका है। नसीर को बलूचिस्तान और सिंध में जासूसी के लिए जाना गया। मीडिया रिपोर्ट में उन्हें पाकिस्तान का सुपर सिपाही कहा जाता है और तमगा-ए-वजारत के अलावा प्रशासनिक कार्यों के लिए कई पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!