ब्लूचिस्तान में यातना पर बनी इंडियन वेब सीरीज से क्यों भड़का हुआ है पाकिस्तान?

Home   >   खबरमंच   >   ब्लूचिस्तान में यातना पर बनी इंडियन वेब सीरीज से क्यों भड़का हुआ है पाकिस्तान?

297
views

बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री के बाद एक भारतीय न्यूज ओटीटी प्लेटफार्म ने की डाक्यूमेंट्री ने पाकिस्तान में खलबली मचा रखी है। जिसके बाद पाकिस्तान लगातार डाक्यूमेंट्री की स्ट्रीमिंग पर रोक लगाने के लिए हाथ पांव मार रहा है। दरअसल इस पूरी फिल्म में बलूचिस्तान का वो सच दिखाया गया है। जिसे पाकिस्तान कभी दुनिया के सामने नहीं लाना चाहता था। 

तंगहाली और आर्थिक संकट झेल रहे पाकिस्तान की परेशानियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। इस वक्त पाकिस्तान की परेशानी एक डॉक्यूमेंट्री ने और बढ़ा दी है। इस डॉक्यूमेंट्री का नाम है ‘बलूचिस्तान: बांग्लादेश 2.0’। जिसे देखने के बाद पाकिस्तान सरकार की नींद हराम हो गई है। दो पार्ट में बनी इस सीरीज ने बलूचिस्तान में हुए मानवाधिकार के हनन को पूरी दुनिया के सामने लाकर रख दिया है। इस डाक्यूमेंट्री को भारतीय न्यूज के पहले ओटीटी प्लेटफार्म न्यूज़ 9 प्लस ने बनाया है। 

डाक्यूमेंट्री में ब्लूचिस्तान से जुड़े वो सच दिखाये गये है। जिसे पाकिस्तान कभी दुनिया के सामने कभी नहीं लाना चाहता था। जिसमें से पहला सच वो दिखाया गया जहां बलूचिस्तान में बीते कई सालों से लोग अचानक ग़ायब हो रहे थे। वहां के लोगों का आरोप है कि सादे कपड़ों या मिलिट्री वर्दी में आए लोग उन्हें अपने घरों से या कहीं बाहर से जबरन उठाकर ले जाते हैं। लगातार पाकिस्तान सरकार इन आरोपों को ग़लत बताती रही है लेकिन इन सबके बीच इस डाक्यूमेंट्री ने पाकिस्तान के सभी झूठ की पोल खोलकर रख दी है।   

वहीं इस सीरीज में चीन और बलूचिस्तान के विरोध कनेक्शन के बारे में बताया गया। सीरीज में दिखाया गया है कि किस तरह चीन अपनी बुरी नजर अब बलूचिस्तान पर लगाये बैठा है। और लगातार वो पाकिस्तान के बलूचिस्तान में इन्वेस्ट कर रहा है। इन्हीं निवेश योजनाओं को लेकर बलूच विद्रोहियों में लगातार गुस्सा बढ़ रहा है और जिससे पाकिस्तान में रह रहे चीनी नागरिकों के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी हो रही है। दरअसल चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) में लगातार इनवेस्ट कर रहा है, जो बलूचिस्तान से होकर गुजरेगा। इसी को लेकर बलूचिस्तान में चीन के स्थानीय लोगों के खिलाफ नाराजगी बढ़ी है।

इस भारतीय वेब सीरीज के बाद पाकिस्तान ने आपत्ति जताते हुए इसे कानूनों का उल्लंघन करने वाला बताया था। जिसके बाद पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी यानी पीटीए ने 25 दिसंबर 2022 को इस मामले को लेकर ट्विटर से शिकायत की। जिसको लेकर ट्विटर ने 5 फरवरी को News9 Plus के कार्यकारी संपादक आदित्य राज कौल से संपर्क किया था। जिसका जवाब में आदित्य राज कौल ने कहा कि पाकिस्तान सेना और आईएसआई लगातार बलूच लोगों के मानवाधिकारों का दुरुपयोग और उत्पीड़न कर रही है। जिससे की हमने रिपोर्ट तैयार की है। इस डॉक्यूमेंट्री को बनाते वक्त हमने बलूचिस्तान के कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और आम लोगों से बात की।  उन्होंने यहां हुई भयावह हिंसा के सबूत दिये।  जिसपर बलूचिस्तान की जमीनी हकीकत दिखाने वाली इस वेब सीरीज पर पाकिस्तान की आपत्ति को ट्विटर ने खारिज कर दिया है। 

दरअसल कश्मीर की तरह बलूचिस्तान में भी मुसलमान आवाम है। लेकिन  जितना दर्द पाकिस्तानी सरकार और सेना के दिल में कश्मीरियों के लिए है। उतनी ही नफरत पाकिस्तान में रहने वाले बलूचिस्तानियों के लिए है। पाकिस्तान में बलूचिस्तान वो सूबा है जो नक्शे में तो पाकिस्तान के अंदर आता है। मगर उसने खुद को कभी पाकिस्तान का हिस्सा माना ही नहीं। क्योकि बलूचिस्तान के लोग आजादी के वक्त से  संस्कृति और सभ्यता के हिसाब से अपने लिए नए मुल्क की मांग कर रहे है और ये पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहते। क्योंकि इनसे उनकी सभ्यता मेल नहीं खाती मगर फिर भी इन्हें पाकिस्तान के साथ रहने के लिए जबरन मजबूर किया जा रहा है।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!