कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत के बाद राज्यसभा में कांग्रेस को होगा फायदा?

Home   >   खबरमंच   >   कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत के बाद राज्यसभा में कांग्रेस को होगा फायदा?

113
views

हिमाचल प्रदेश के बाद कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को प्रचंड जीत मिली है। ऐसे में पार्टी को राज्य में अगले साल खाली हो रही राज्यसभा की 4 सीटों में से तीन पर अपने उम्मीदवारों को जिताने में मदद मिलने की संभावना है। कहा यह जा रहा है कि विधायकों की संख्या बढ़ने से राज्यसभा चुनाव में भी पार्टी के सदस्यों की संख्या बढ़ेगी। ऐसे में कांग्रेस स्वाभाविक रूप से राष्ट्रीय राजनीति में अपना प्रभाव बढ़ने की अपेक्षा कर रही है और उसका ये प्रभाव उच्च सदन में भी बढ़ेगा।

कर्नाटक में अगले साल राज्यसभा की चार सीटें खाली हो रही हैं। इन चार सीटों में तीन सीटों से कांग्रेस के सैयद नासिर हुसैन, जीसी चंद्रशेखर और एल हनुमंथैया राज्यसभा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वहीं, चौथी सीट से बीजेपी सरकार में केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर राज्यसभा के सदस्य हैं। राज्यसभा के इन चारों सदस्यों का कार्यकाल अप्रैल 2024 में पूरा हो जाएगा। ऐसे में कर्नाटक विधानसभा में 135 सीटें हासिल करके, पार्टी ने अपने तीन सदस्यों की जीत पर लगभग मुहर लगा दी है। उधर, इस साल के विधानसभा चुनाव में बीजेपी 224 सीटों में से केवल 65 पर ही जीत हासिल कर पाई है। ऐसे में वो अगले साल होने वाले राज्यसभा चुनाव में केवल एक ही राज्यसभा सीट से अपने प्रत्याशी को चुनाव लड़ा पाएगी।

कर्नाटक में राज्यसभा की 12 सीटें 

दरअसल, 224 सदस्यीय विधानसभा सीटों वाले कर्नाटक में राज्यसभा की कुल 12 सीटें हैं। इनमें से फिलहाल 6 सीट बीजेपी के पास हैं, जबकि अन्य 6 सीटों में से पांच सीट कांग्रेस के पास और एक सीट जेडीएस (जनता दल सेक्यूलर) के पास है और उससे पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा राज्यसभा के सदस्य हैं, जबकि कांग्रेस के पास पांच राज्यसभा सीटों में से एक सीट पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के पास है। एचडी देवगौड़ा, मल्लिकार्जुन खरगे, बीजेपी के इरन्ना कदली और नारायण कोरागप्पा का कार्यकाल 2026 में समाप्त होगा। वहीं, बीजेपी के पास जो छह सीटें हैं, उन्हीं में से एक सीट से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी राज्यसभा की सदस्य हैं और निर्मला सीतारमण समेत चार अन्य सदस्यों का कार्यकाल 2028 में खत्म होगा।

हिमाचल प्रदेश में तीन राज्यसभा सीटें 

अगर हिमाचल प्रदेश की बात करें तो यहां तीन राज्यसभा सीटें हैं और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का कार्यकाल भी अप्रैल 2024 में पूरा हो रहा है। यहां से कांग्रेस के 40 विधानसभा सदस्य हैं, जबकि बीजेपी के 21 और तीन निर्दलीय विधायक हैं। ऐसे में अगले साल सदस्यता जाने के बाद बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के हिमाचल से ही फिर से राज्यसभा सदस्य चुने जाने पर संकट गहरा सकता है। क्योंकि विधायकों की संख्या के हिसाब से कांग्रेस के लिए इस सीट को जीतना आसान होगा। वहीं, राज्यसभा में इस समय बीजेपी 92 सदस्यों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। इसके बाद कांग्रेस 31 और तृणमूल कांग्रेस 13 का नंबर आता है, जबकि डीएमके और आम आदमी पार्टी के दस-दस सदस्य हैं। वहीं बीजू जनता दल और वाईएसआर कांग्रेस के नौ-नौ सदस्य हैं। टीआरएस के पास 7 और आरजेडी के पास 6 सदस्य हैं।

पिछले 10 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं। वैश्विक और राजनीतिक के साथ-साथ ऐसी खबरें लिखने का शौक है जो व्यक्ति के जीवन पर सीधा असर डाल सकती हैं। वहीं लोगों को ‘ज्ञान’ देने से बचता हूं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!