Woमंच: Covid Vaccine Research पर Periods को लेकर हुआ चौकाने वाला खुलासा !

Home   >   Woमंच   >   Woमंच: Covid Vaccine Research पर Periods को लेकर हुआ चौकाने वाला खुलासा !

Woमंच: Covid Vaccine Research पर Periods को लेकर हुआ चौकाने वाला खुलासा !
228
views

Woमंच: Covid Vaccine Research पर Periods को लेकर हुआ चौकाने वाला खुलासा !

 

डब्लू एच ओ के मुताबिक विश्व की 70 प्रतिशत आबादी कोविड वैक्सीन का कम से कम पहला डोज लेने के करीब है। हालांकि कोविड वैक्सीन को लेकर कई लोगों का फीडबैक नेगेटिव भी रहा है, वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों का कहना था कि उन्हें अलग-अलग प्रॉब्लम फेस करनी पड़ी, हालांकि ज़्यादातर को अफ़वाह बताया गया है। लेकिन हॉल ही में एक रिसर्च ने महिलाओं में वैक्सीन लगने के बाद मेस्टुरेशन साइकल में समस्या का दावा पेश किया गया है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ की अगुवाई में यूनाइटेड स्टेट्स की ओरेगन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी ने 20 हजार लड़कियों और महिलाओं पर एक रिसर्च की। इस रिसर्च में पाया गया कि वैक्सीन लगने के बाद महिलाओं के मेस्टुरेशन साइकल में करीब आठ दिन का अंतर देखा गया।

इसी के साथ जब कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी ‘फाइजर-बायोएनटेक’ ने इसपर रिसर्च की, तो रिजल्ट में टीनऐजर लड़कियों पर वैक्सीन के नेगेटिव इफेक्ट की बात निकलकर सामने आई। विश्व में कई देशों ने कोविड़ से बचाव के लिए फाइजर-बायोएनटेक कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल टीनएजर्स पर किया। स्टडी के मुताबिक इस वैक्सीन के यूज के बाद लड़कियों को दर्द, सिर दर्द और थकान जैसी कई प्रोब्लम्स हुईं।

 

हालांकि इसी के साथ रिसर्च में शामिल वैज्ञानिकों का कहना है कि वैक्सीन लगने के बाद महिलाओं के शरीर में ‘हॉर्मोनल रेगुलेट सिस्टम’ पर असर पड़ता है। यानी वैक्सीन लगने के बाद शरीर में हार्मोन्स का लेवल बिगड़ जाता है और इन्ही हार्मोन्स में गड़बड़ी के चलते पीरियड़्स से जुडी समस्याएँ लड़कियों के सामने आती हैं। इसी कारण से

 

वैक्सीन लगवाने के बाद करीब 25 प्रतिशत लड़कियों में कम से कम एक बार मेस्टुरेशन साइकल की दिक्कत का सामना करना पड़ता है। कुछ महिलाओं को ये प्रोब्लम वैक्सीन लगवाने के एक महीने बाद ही शुरू हुई हैं। तो कुछ महिलाओं में दो से तीन महीने बाद ये लक्षण देखने को मिलते हैं। वैक्सीन की वजह से महिलाओं को ब्लीडिंग और दर्द की प्रोब्लम का सामना करना पड़ा। हालांकि ये लक्षण कुछ समय के लिए ही होते हैं। 

 

पीरियड़्स के दौरान होने वाले दर्द को डॉक्टर पहले ही असहनीय बता चुकें हैं। उस पर हॉर्मोन्स में हो रही गड़बड़ी से समस्या और भी बढ़ जाती है। वैक्सीन पर रिसर्च करने वाले डॉक्टर्स का कहना कि मेस्टुरेशन साइकल में देरी या दर्द का एकमात्र कारण वैक्सीन ही हो, ये जरुरी नहीं है। कुछ लोगों को ये समस्या और भी कारणों से भी हो सकती है। जैसे खान-पान में बैलेंस न होना, खराब लाइफस्टाइल, हेल्थ रिलेटेड प्रोब्लम भी पीरियड़ में देरी का कारण बन सकती है।

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!