42 साल के हुए पूर्व भारतीय कप्तान MS Dhoni, जानिए उनसे जुड़े 7 किस्से

Home   >   रनबाज़   >   42 साल के हुए पूर्व भारतीय कप्तान MS Dhoni, जानिए उनसे जुड़े 7 किस्से

143
views

 

महेंद्र सिंह धोनी...इस खिलाड़ी के बारे में जितना सुना जाए, लिखा जाए या बताया जाए कम ही है। 7 नंबर की जर्सी वाले इस खिलाड़ी ने अपनी कैप्टेंसी में इंडियन क्रिकेट को उस मुकाम तक पहुंचाया है, जिसे हासिल करना एक सपने जैसा था। जिन विदेशी टूर्नामेंट्स में आज की मौजूदा भारतीय टीम स्ट्रगल करती दिखती है, लेकिन एक समय ऐसा था जब धोनी के माइंडगेम की वजह से इंडिया वर्ल्ड क्रिकेट में नंबर वन थी। 15 अगस्त साल 2020 में धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लिया था, हालांकि धोनी हर साल IPL में खेलते हुए नज़र आते हैं, उन्होंने इस सीजन चेन्नई सुपर किंग्स को 5वां IPL खिताब दिलाया। धोनी की फैन फॉलोइंग इतनी ज्यादा है कि दक्षिण भारत में लोग उन्हें भगवान मानते हैं।

7 जुलाई 1981 को रांची के एक राजपूत फैमिली में जन्में महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट की कई बुलंदियों को छुआ है। क्रिकेट के मैदान में धोनी हमेशा कूल अंदाज में रहते हैं। भले ही धोनी का आज सक्सेसफुल करियर है, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था, जब उन्हें अपनी पहचान बनाने में खासा संघर्ष करना पड़ा था। 'कैप्टन कूल' आज अपना 42वां जन्मदिन मना रहे हैं... क्रिकेट के मैदान पर

- 2007 में ICC टी20 वर्ल्ड कप

- 2011 में ICC वनडे वर्ल्ड कप

- 2013 में ICC चैंपियंस ट्रॉफी

के तौर पर तीनों बड़ी टूर्नामेंट जीतने वाले दुनिया के इकलौते कप्तान रहे हैं। उनसे जुड़ी ऐसी ही सुनी-अनसुनी बातें जानते हैं।

धोनी ने टीम इंडिया को क्रिकेट के हर फॉरमेट में बुलंदियों तक पहुंचाया, लेकिन रांची का ये लड़का क्रिकेटर नहीं, कुछ और बनना चाहता था। धोनी ने एक इंटरव्‍यू में कहा था कि

बचपन से सेना में जाने का है सपना

वो बचपन से ही फौजी बनना चाहते थे। वो रांची के कैंट एरिया में अक्सर घूमने चले जाते थे, लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था, वो फौज के अफसर नहीं बन पाए और क्रिकेटर बन गए।

धोनी का जन्मदिन है तारीख भी 7 है और महीना भी 7वां है. इस 7 नंबर का भी धोनी से अटूट रिश्ता है। धोनी ने एक बार खुद कहा था कि

माही का लकी नंबर 7

जब पहली बार भारतीय टीम के साथ केन्या गए तो वो अपने लिए जर्सी नंबर ढूंढ रहे थे। उस समय सात नंबर खाली था और वो उन्हें मिल गया। माही की हर बाइक और सभी कार पर भी 7 नंबर दिखता है। यही नहीं वो 'सेवेन' नाम के एक परफ्यूम और डीओ के ब्रांड एम्बैस्डर भी हैं।

धोनी ने करियर की शुरुआत टिकट कलेक्टर से शुरू की थी और बाद में भारत के लिए ट्रॉफी कलेक्टर बन गए।

जब करनी पड़ी थी रेलवे की नौकरी

आज जिस धोनी को दुनिया पागलों की तरह प्यार करती है और माही-माही कहते उसकी जुबान नहीं थकती। उसी धोनी को क्रिकेट के शौक और अभ्यास के लिए रेलवे में कलेक्टर की नौकरी करनी पड़ी थी।

धोनी लिमिटेड ओवर्स के उस्ताद हैं और इसमें वो महारत हासिल कर चुके है। कैप्टन कूल माही ने अपनी विनम्रता और शीतलता से टीम को शिखर तक पंहुचाया। उनके इसी अंदाज की पूरी दुनिया कायल है...यहां तक की पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने भी माही की तारीफ की थी। याद होगा आपको जब धोनी अपने शुरुआती दिनों में लंबे छक्के लगाते, तो हेलमेट से बाहर लटकते उनके बाल अलग ही रंग में हवा में इतराते थे।

जब परवेज मुशर्रफ ने की थी तारीफ

जब 2005-06 में टीम इंडिया पाकिस्तान गई...उस टीम में धोनी भी थे। लाहौर में खेले गए मुकाबले में धोनी ने ताबड़तोड़ 46 गेंदों में 72 रन बना दिए थे। मैच के बाद प्रेजेंटेशन सेरेमनी में पहुंचे पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशरर्फ ने धोनी के बालों की तारीफ करते हुए इसे न काटने की रिक्वेसट की थी।

धोनी ने अपने करियर में कुल 350 वनडे मैच खेले हैं. इन मैचों में धोनी कुल 84 बार नाबाद लौटे हैं...Dhoni इस मामले में टॉप पर हैं।

MS Dhoni भारत के लिए सबसे ज्यादा वनडे खेलने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं, जबकि पहले पर सचिन तेंदुलकर हैं। इतना ही नहीं धोनी के नाम ये भी रिकॉर्ड्स हैं...

धोनी के नाम रिकॉर्ड्स

-    200 वनडे मैचों में कप्तानी का रिकॉर्ड

-    सबसे ज्यादा स्टंपिंग का रिकॉर्ड

-    ICC ODI Ranking में सबसे जल्दी टॉप पर पहुंचने का रिकॉर्ड

-    ICC की सभी ट्रॉफी जीतने वाले इकलौते कप्तान

-    विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में सबसे बड़ा स्कोर बनाने का रिकॉर्ड

कारों और बाइक का शौक

इतना ही नहीं धोनी को कार और बाइक का बहुत शौक है। हार्ले डेविडसन से लेकर डुकाती तक करीब 23 बाइक्स हैं। इनमें से कॉन्फेडरेट एक्स132 हेलकैट बाइक माना जाता है कि पूरे दक्षिण-पूर्वी एशिया में अकेले धोनी के ही पास है। कारों में उनके पास हमर H2, ऑडी Q7 है।

शायद ही किसी ने धोनी को किसी दूसरे खिलाड़ी पर गरजते या बरसते देखा होगा। दुनिया के दूसरों देशों के खिलाड़ियों से भी शायद ही उनकी कभी लड़ाई हुई होगी। वो क्रिकेट का जवाब क्रिकेट से देने में यकीन रखते हैं और यही उन्हें महान बनाता है। क्रिकेट का ये सितारा हमेशा ही चमकता रहे और टीम को जीत दिलाता रहे। Happy Birthday Mahendra Singh Dhoni.

 

 

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!