T20 World Cup 2024 Final: साउथ अफ्रीका के माथे से फिर नहीं मिट सका ‘चोकर्स’ का दाग

Home   >   रनबाज़   >   T20 World Cup 2024 Final: साउथ अफ्रीका के माथे से फिर नहीं मिट सका ‘चोकर्स’ का दाग

16
views

टीम इंडिया ने सदी की सबसे बड़ी चोकर्स साउथ अफ्रीका (South Africa) को T20 World Cup 2024 Final के मुकाबले में  हरा दिया। 32 साल बाद उम्मीद थी कि साउथ अफ्रीका माथे से चोकर्स का दाग धुल डालेगी, लेकिन टीम 177 रन का टारगेट चेज नहीं कर पाई। 7 रन से हार गई। उसका इतिहास बदला नहीं, पहले भी चोकर्स थी, आज भी वही साबित हुई। आइए जानते हैं कब और कैसे साउथ अफ्रीका वर्ल्ड कप सेमीफाइनल से बाहर हुआ...

1992 से व्हाइट बॉल क्रिकेट खेल रही अफ्रीकी टीम आज तक एक भी वर्ल्ड कप नहीं जीत सकी है, जबकि साउथ अफ्रीका की टीम एक मजबूत टीम है, लेकिन टीम का अतीत अच्छा नहीं रहा। इससे पहले 7 बार साउथ अफ्रीका की टीम फाइनल में पहुंचने में चूकी है। साउथ अफ्रीका ने वर्ल्ड कप नहीं जीता, इसका मतलब ये नहीं है कि टीम ने कोई ICC ट्रॉफी भी नहीं जीती है। उन्होंने साल 1998 में चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता था। साउथ अफ्रीका ने पहली बार 1992 में वनडे वर्ल्ड कप खेला। टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई, लेकिन इंग्लैंड से हार गए। 1996 से 2015 तक टीम 6 में से 5 बार नॉकआउट राउंड में पहुंची, लेकिन कभी क्वार्टर फाइनल तो कभी सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गई। 2003 और 2019 में टीम नॉकआउट राउंड में नहीं पहुंच सकी। 2023 में साउथ अफ्रीका ने फिर वापसी की और सेमीफाइनल खेला, लेकिन ऑस्ट्रेलिया से हार गई। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम ने ये वनडे वर्ल्ड कप तीसरा सेमीफाइनल गंवाया था। इसके अलावा टीम न्यूजीलैंड से दो बार और वेस्टइंडीज और इंग्लैंड से एक-एक बार नॉकआउट मैच हार चुकी है। टीम ने एकमात्र नॉकआउट मैच 2015 में जीता था, जब साउथ अफ्रीका ने क्वार्टर फाइनल में श्रीलंका को हराया था।

चैंपियंस ट्रॉफी में कामयाबी मिली

साल 1998 में ICC ने चैंपियंस ट्रॉफी के रूप में पहली बार अपना दूसरा 50 ओवर का टूर्नामेंट शुरू किया। इसका नाम कभी विल्स इंटरनेशनल तो कभी नॉकआउट ट्रॉफी हुआ, लेकिन अब इसे चैंपियंस ट्रॉफी के नाम से जाना जाता है। इसमें साउथ अफ्रीका ने शानदार प्रदर्शन किया और लगातार 3 नॉकआउट मैच जीतकर ट्रॉफी भी अपने नाम की। जैक्स कैलिस प्लेयर ऑफ द मैच और प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट बने। ये साउथ अफ्रीका की टीम का पहला और आखिरी आईसीसी खिताब था। इसके बाद टीम ने 7 बार चैंपियंस ट्रॉफी में हिस्सा लिया, लेकिन खिताब तो दूर, फाइनल तक पहुंचना भी नसीब नहीं हुआ। टीम 2000 और 2002 में भारत से लगातार 2 सेमीफाइनल हारी। 2006 में वेस्टइंडीज और 2013 में इंग्लैंड ने सेमीफाइनल में उन्हें हराकर बाहर कर दिया। साल 2004, 2009 और 2017 में साउथ अफ्रीका ग्रुप स्टेज भी पार नहीं कर सकी। पहले खिताब के बाद टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी में 5 नॉकआउट मैच खेले, 4 सेमीफाइनल हारे। वहीं इंग्लैंड के खिलाफ एकमात्र क्वार्टर फाइनल भी साल 2000 में जीता। यानी टीम वर्ल्ड कप में 32 साल तो वहीं चैंपियंस ट्रॉफी में 26 साल से चोक कर रही है।

वर्ल्ड कप साल 2007 

जब क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट का वर्ल्ड कप साल 2007 में शुरू हुआ, तो ICC ने इसकी मेजबानी साउथ अफ्रीका को दी। टीम ने पहले ही मैच में वेस्टइंडीज को हराया। सुपर-8 में भी टीम ने लगातार 2 मैच जीते, लेकिन आखिरी मैच भारत से हारकर उसे ग्रुप स्टेज से बाहर होना पड़ा। साल 2009 में साउथ अफ्रीका फिर सेमीफाइनल में पहुंची, लेकिन इस बार वो पाकिस्तान से हार गई। इसके बाद साल 2010 और 2012 में वो ग्रुप स्टेज से बाहर हो गई थी। इसी तरह 2014 में साउथ अफ्रीका सेमीफाइनल में तो पहुंची, लेकिन भारत से हारकर उसे बाहर होना पड़ा। 2016 से 2022 तक टीम फिर ग्रुप स्टेज से बाहर हुई और अब 2024 में उसने पहली बार फाइनल में जगह बनाई थी।

WTC का एक भी फाइनल नहीं खेला

चैंपियंस ट्रॉफी, वनडे वर्ल्ड कप और T20 वर्ल्ड कप के बाद ICC ने 2019 में टेस्ट फॉर्मेट का टूर्नामेंट भी शुरू किया। इसका नाम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप यानी WTC रखा, जिसमें 2 साल तक टॉप-9 टीमों के बीच 6-6 सीरीज खेली जाती हैं। पॉइंटस टेबल के आखिर में टॉप-2 टीमों के बीच फाइनल खेला जाता है। साउथ अफ्रीका आज तक इस टूर्नामेंट के फाइनल में नहीं पहुंच सकी है।

साउथ अफ्रीका ने 26 साल में 10 सेमीफाइनल गंवाए

साल 1999 से 2024 तक साउथ अफ्रीका ने आईसीसी के 23 टूर्नामेंट खेले। टीम 11 बार ग्रुप स्टेज से बाहर हुई, 12 बार नॉकआउट स्टेज तक भी पहुंची। टीम पर चोकर्स का टैग इसलिए लगा, क्योंकि उन्होंने नॉकआउट स्टेज के 14 में से 11 मैच गंवाए। इनमें 10 सेमीफाइनल और एक क्वार्टर फाइनल शामिल है। साउथ अफ्रीका को नॉकआउट स्टेज की 3 में से 2 जीत भी क्वार्टर फाइनल में मिली। आलम ये था कि दक्षिण अफ्रीका को दबाव के आगे घुटने टेकने वाले ‘चोकर्स’ कहा जाने लगा, लेकिन एक मैच ने दास्तां बदल दी, वक्त बदल दिया और जज्बात बदल दिए। अफगानिस्तान को तारोबा में टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में 9 विकेट से हराकर पहली बार साउथ अफ्रीका की टीम फाइनल में पहुंची तो न जाने कितने सालों के जख्मों पर मरहम लग गया, लेकिन इंडिया ने 7 रनों से हराकर साउथ अफ्रीका पर चोकर्स का टैग हटने नहीं दिया।

पिछले 12 साल से पत्रकारिता के क्षेत्र में हूं। वैश्विक और राजनीतिक के साथ-साथ ऐसी खबरें लिखने का शौक है जो व्यक्ति के जीवन पर सीधा असर डाल सकती हैं। वहीं लोगों को ‘ज्ञान’ देने से बचता हूं।

Comment

https://manchh.co/assets/images/user-avatar-s.jpg

0 comment

Write the first comment for this!